पहले 'अमीरात-लेबनानी फोरम' ने निजी क्षेत्र की साझेदारी के अवसरों पर चर्चा की 

अबू धाबी, 5 दिसंबर, 2018 (डब्ल्यूएएम) -- पहला "अमीरात-लेबनानी इन्वेस्टमेंट फोरम" आज अबू धाबी में शुरू हुआ। फेडरेशन ऑफ इकोनॉमी और वाणिज्य और उद्योग, अबू धाबी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (एडीसीसीआई) ने संयुक्त रूप से यूएई के वाणिज्य और उद्योग संघ और लेबनान के वाणिज्य, उद्योग और रसायन संघ के सहयोग से मंच का आयोजन किया। फोरम की शुरुआत अर्थव्यवस्था मंत्री सुल्तान बिन सईद अल मंसूरी और लेबनानी आर्थिक प्राधिकरणों के अध्यक्ष, वाणिज्य, उद्योग और कृषि संघ के फेडरेशन के अध्यक्ष मोहम्मद शकीर द्वारा शुरू किया गया। इस अवसर पर लेबनान में संयुक्त अरब अमीरात के राजदूत हमद सईद सुल्तान अल शमसी अौर संयुक्त अरब अमीरात के लेबनानी राजदूत शेहाब दंडन उपस्थित थे। फोरम में भाग लेने वालों में एडीसीसीआई के पहले उपाध्यक्ष इब्राहिम अल महमूद शामिल रहे। एडीसीसीआई के महानिदेशक मोहम्मद हेलल अल मुहैरी, अर्थव्यवस्था मंत्रालय के विदेश व्यापार क्षेत्र के सहायक सचिव जुमा अल कैत, संयुक्त अरब अमीरात चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के फेडरेशन के महासचिव हुमायद बिन सलेम; संयुक्त अरब अमीरात अंतर्राष्ट्रीय निवेशक परिषद, यूएईआईआईसी के महासचिव जमाल अल जारवान, और लेबनानी निवेशक संघ के अध्यक्ष जैक्स सराफ के साथ-साथ दोनों देशों के सरकारी और निजी संगठनों के वरिष्ठ प्रतिनिधिमंडल भी मंच में उपस्थित थे। फोरम ने परिवहन, बुनियादी ढांचे, पर्यटन, ऊर्जा और पेट्रोकेमिकल्स समेत सामान्य हित के क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करने के साथ-साथ दोनों देशों के बीच वर्तमान आर्थिक और व्यापार सहयोग पर प्रकाश डाला। फोरम में अमीरात और लेबनानी उद्योगपतियों ने भाग लिया, जिसमें सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों के बीच साझेदारी पर एक संयुक्त सत्र भी आयोजित किया। इस दौरान अमीराती कंपनियों के वरिष्ठ अधिकारी और उनके लेबनानी समकक्ष उपस्थित रहे और द्विपक्षीय बैठकों के गवाह बने। अपने शुरुआती भाषण के दौरान, अल मंसूरी ने अंतरराष्ट्रीय अर्थव्यवस्था का सामना करने वाली चुनौतियों और कुछ प्रमुख अर्थव्यवस्थाओं में संरक्षणवादी नीतियों की वापसी पर प्रकाश डाला, जिसका निवेश और व्यापार पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है। व्यापार में विवाद और अस्थिरता के प्रभाव के साथ ही साझेदारी और आर्थिक विकास पर जोर दिया गया। उन्होंने कहा कि संयुक्त अरब अमीरात और लेबनान के बीच वाणिज्यिक संबंध नई साझेदारी शुरू करने के लिए एक आदर्श मंच है, और 2017 में दोनों देशों के बीच गैर-तेल वाणिज्यिक विनिमय लगभग 2 अरब अमेरिकी डॉलर का था, जो 2016 की तुलना में 4.4 प्रतिशत से अधिक रहा। 2016 में लेबनान में अमीराती निवेश $ 7.3 बिलियन से अधिक हुआ, जिसमें नागरिक उड्डयन, बंदरगाह प्रबंधन, बैंकिंग, पर्यटन, ऊर्जा और पेट्रोकेमिकल्स सरीखे क्षेत्र शामिल रहे। संयुक्त अरब अमीरात के अर्थव्यवस्था मंत्रालय में 106 से अधिक लेबनानी कंपनियां पंजीकृत हैं, और 2016 में $1.5 बिलियन से अधिक निवेश हुआ है। अनुवादः एस कुमार http://wam.ae/en/details/1395302725462

WAM/Hindi