• 'kan yama kan' provides over 500 books to indian school 1.jpg
  • 'kan yama kan' provides over 500 books to indian school 2.jpg
  • 'kan yama kan' provides over 500 books to indian school 3.jpg

'कन यमा कन' ने भारतीय स्कूल को 500 से अधिक पुस्तकें प्रदान किया

नई दिल्ली, 10 जनवरी, 2019 (डब्ल्यूएएम) -- पुस्तकों तक भारतीय बच्चों की पहुंच के लिए, यूएई बोर्ड फॉर बुक्स ऑन यंग पीपल, UAEBBY की कन यमा कन ने नई दिल्ली में नौशेरा मेवात पब्लिक स्कूल के बच्चों को साहित्य, आत्म-विकास और अन्य 500 से अधिक नई पुस्तकें दीं। इन किताबों को स्कूल की लाइब्रेरी में में रखा गया है, जिसमें पहले से 2,000 किताबें हैं। इस लाइब्रेरी को वर्ष 2017 में एतिहाद एयरवेज के सहयोग से स्कूल में स्थापित किया गया था। ज्ञान, मनोरंजन, ज्ञान और मनोवैज्ञानिक समर्थन के स्रोत के रूप में काम करने के लिए पुस्तकों का चयन UAEBBY द्वारा किया गया था। UAEBBY की अध्यक्ष मारवा अल अकरौबी और UAEBBY के प्रतिनिधिमंडल का छात्रों द्वारा स्कूल में स्वागत किया गया, जिसके बाद बच्चों के बीच पुस्तकों का वितरण किया गया। मारवा अल अकरौबी ने बच्चों और किताबों को साथ लाने और ज्ञान प्राप्त करने में उनकी मदद करने के लिए UAEBBY के लक्ष्य पर जोर दिया, और कहा कि दुनिया भर के पुस्तक मेलों और अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रमों में बोर्ड की भागीदारी, पुस्तक दान और अन्य सांस्कृतिक और साहित्यिक गतिविधियों के माध्यम से उन्हें अपने स्थापित लक्ष्यों तक पहुंचने के लिए प्रेरित करती है। उन्होंने कहा, "हमें यह देखकर खुशी हुई कि 2017 में हमने जो पुस्तकालय स्थापित किया है, उसका कितना उपयोग किया गया है। यह नया उद्यम बच्चों को विभिन्न प्रकार की विधाओं में दिलचस्प किताबें पेश करके पढ़ने की संस्कृति को बढ़ावा देने की हमारी प्रतिबद्धता को दर्शाता है।"

उन्होंने कहा, ''हम दुनिया भर के विभिन्न समुदायों के लिए शुरू होने वाली हर पहल और परियोजना पर भी अमल करते हैं।'' UAEBBY इंटरनेशनल बोर्ड ऑन बुक्स फॉर यंग पीपल, IBBY की राष्ट्रीय शाखा है। 77 से अधिक देशों में संचालित IBBY का मुख्यालय स्विट्जरलैंड में है। इसे 1953 में स्थापित किया गया है। संगठन दुनिया भर के संस्थानों और व्यक्तियों का एक अंतरराष्ट्रीय नेटवर्क है जो बच्चों और किताबों को साथ लाने की संस्कृति को बढ़ावा देने और प्रोत्साहित करने के लिए प्रतिबद्ध हैं। अनुवादः एस कुमार.

http://wam.ae/en/details/1395302731570

WAM/Hindi