700 अरब डॉलर से अधिक की हलाल अर्थव्यवस्था वाले 32 सदस्य देशों के साथ आईएचएएफ के 1 हजार दिन

दुबई, 4 मार्च, 2019 (डब्ल्यूएएम) - अंतर्राष्ट्रीय हलाल प्रत्यायन मंच (आईएचएएफ) ने नवीनतम उपलब्धि की घोषणा की है। यह उपलब्धि हलाल के लिए मील का पत्थर है। परिचालन के 1,000 दिनों के भीतर इसकी सदस्य संख्या पहुंचकर 32 हो गई है। 32 सदस्य देशाें वैसे हलाल अर्थव्यवस्था का प्रतिनिधित्व करते हैं जो 700 बिलियन अमेरिकी डॉलर से अधिक का है। इस तरह यह 2.1 ट्रिलियन डॉलर की वैश्विक हलाल अर्थव्यवस्था का लगभग 34 प्रतिशत है। थॉमसन रॉयटर्स के सहयोग से ग्लोबल इस्लामिक इकोनॉमी रिपोर्ट 2018-2019 के आंकड़ों के आधार पर वैश्विक इस्लामिक अर्थव्यवस्था में शीर्ष 15 देशों में से नौ आईएचएएफ सदस्य हैं, जैसे यूएई, बहरीन, केएसए, ओमान, जॉर्डन, पाकिस्तान, कुवैत, इंडोनेशिया और तुर्की। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि हलाल खाद्य निर्यात क्षेत्र में प्रवेश करने वालाें में कम से कम दो आईएएचएफ सदस्य हैं, जैसे किर्गिस्तान और फिलीपींस। शानदार उपलब्धि और सफलता हासिल करने पर आईएचएएफ के महासचिव मोहम्मद सालेह बद्री ने कहा कि 2016 में स्थापना के बाद से आईएएचएफ हलाल उत्पादों और विश्वास बनाए रखने के लिए लगातार काम कर रहा है। हलाल क्षेत्र में अनुरूपता मूल्यांकन प्रथाओं से सामंजस्य स्थापित करके दुनिया में सेवा की पेशकश की जा रही है। आईएचएएफ का अंतर्राष्ट्रीय प्रत्यायन फोरम (आईएएफ) और अंतर्राष्ट्रीय प्रयोगशाला प्रत्यायन सहयोग (आईएलएसी) के साथ सहयोग मील का पत्थर माना जाता है। यह न केवल अंतर्राष्ट्रीय क्षेत्र में फोरम की भूमिका को मान्यता देता है बल्कि विश्व व्यापार के लिए नए दरवाजे खुलने के उम्मीद के साथ ही देशों के बीच विभिन्न हलाल उत्पादों और सेवाओं के निर्बाध मार्ग को सुनिश्चित करता है। हाल के रिपोर्ट से संकेत मिला है कि हलाल मांस और जीवित जानवरों के शीर्ष पांच निर्यातक ऑर्गनाइजेशन ऑफ इस्लामिक कोऑपरेशन (ओआईसी) के सदस्य देशों में से चार आईएचएएफ के सदस्य हैं। उन देशाें में ब्राजील, ऑस्ट्रेलिया, भारत और यूएसए शामिल हैं। पांच प्रमुख हलाल खाद्य स्रोत बाजारों में से चार आईएचएएफ सदस्य हैं, जैसे ब्राजील, भारत, अर्जेंटीना और रूस। शीर्ष पांच हलाल खाद्य आयातकों में से चार केएसए, यूएई, इंडोनेशिया और मिस्र आईएचएएफ के सदस्य देश हैं। विभिन्न संगठनों के साथ समझौता ज्ञापन और तकनीकी सहयोग समझौते के संकेत ने भी आईएचएएफ के 1,000 दिनों के संचालन को चिह्नित किया। मिस्र के प्रत्यायन परिषद, ब्राजील नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेट्रोलॉजी, गुणवत्ता और प्रौद्योगिकी, अंतर-अमेरिकी प्रत्यायन सहयोग और ऑर्गेनिज़ो अर्जेंटीना डी एक्रेडिटेशन तथा अन्य के बीच हालिया उपक्रम के लिए समझाैते हुए। बद्री ने कहा कि आईएचएएफ दुनिया में हलाल के बारे में जागरूकता फैलाने में सबसे आगे है। हम चीन के शेन्ज़ेन में द्वितीय चीन-यूएई इस्लामिक बैंकिंग और वित्त सम्मेलन जैसे महत्वपूर्ण सम्मेलनों का हिस्सा रहे हैं। ये सम्मेलन वैश्विक विकास को गति देने पर केंद्रित था। आईएचएएफ ने हाल ही में किर्गिस्तान, मिस्र, कोस्टा रिका, हांगकांग और ताजिकिस्तान में हलाल जागरूकता कार्यशालाओं और प्रशिक्षण कार्यक्रमाें का आयाेजन और संचालित किया। हलाल के कार्यक्रम हितधारकों, मूल्यांकनकर्ताओं, तकनीकी विशेषज्ञों और व्यापारियों को शामिल करने में प्रभावशील रहा है। आईएचएएफ के वाइस चेयरमैन और इटैलियन नेशनल एक्रीडिएशन बॉडी (एसीसीआरईडीआईए) के वाइस जनरल डायरेक्टर इमानुएल रीवा ने टिप्पणी में कहा कि तीन साल के दाैरान नौ से 32 तक सदस्य संख्या में वृद्धि विश्व स्तर पर कुल वैश्विक हलाल अर्थव्यवस्था के बहुमत में इसके योगदान का परिचायक है। यह उपलब्धि न केवल आईएएचएफ के लिए मील का पत्थर है, बल्कि बड़े पैमाने पर हलाल उद्योग के भविष्य के लिए भी। अनुवादः वैद्यनाथ झा http://wam.ae/en/details/1395302744404

WAM/Hindi