रास अल खैमाह की वैश्विक विकास हब क्षमता बनने पर हुई तारीफ 


रास अल खैमाह, 6 अप्रैल, 2019 (डब्ल्यूएएम) - यूएई में डेनमार्क के राजदूत फ्रांज-माइकल स्कोल्ड मेलबिन ने कहा है कि सुप्रीम काउंसिल के सदस्य और रास अल खैमाह के शासक महामहिम शेख सऊद बिन सकर अल कासिमी के साथ उनकी शुक्रवार को हुई बैठक आंख खोलने वाला अवसर था, जिससे विकास के लिए विश्व स्तरीय हब के रूप में अमीरात की विशाल क्षमता का खुलासा हुआ। उन्हाेंने कहा कि मैं रास अल खैमाह के विकास की चाहत के बारे में काफी प्रभावित हूं। महामहिम ने समझाया कि मानवीय तत्व उनके केंद्र में है। वे प्रतिभाओं और कंपनियाें पर नज़र रखते हुए रास अल खैमाह को विकास का विश्वस्तरीय केंद्र बनाना चाहते हैं। डेनमार्क के राजदूत ने कहा कि जब वह अमीरात के एक प्रमुख औद्योगिक दिग्गज रास अल खैमाह सेरामिक से मिलकर काफी प्रभावित हुए। मैंने यहां महामहिम से लेकर स्वतंत्र क्षेत्र व व्यक्तिगत कंपनियों में सुसंगता और महत्वाकांक्षा देखी। रास अल खैमाह जैसी जगहों पर वाणिज्यिक अवसर देखना आत्मविश्वास का सूचक है। उन्होंने कहा कि उन्हें यहां गंभीर कारोबारी माहौल देखने काे मिला। ये माहाैल वास्तविक अवसर प्रदान करता है और इस जगह निवेश के बारे में विचार करने के लिए बहुत सारे लोगों के लिए दरवाजे खोलता है। एक ऐसी दुनिया जहां कड़ी प्रतिस्पर्धा करनी पड़ेगी। हमारे पास दुबई और अबू धाबी है, जिनकी ब्रांड और नाम के रूप में विश्व पहचान है। रास अल खैमाह जैसी जगह के लिए काफी जरूरी है कि उनके व्यावसायिक और मूल्य प्रस्ताव का समर्थन करने के लिए इन प्रकार के संकेतक हों। रास अल खैमाह के विकास संभावनाओं के बारे में राजदूत ने कहा मुझे दो क्षेत्राें संभावनाएं दिखाई देती हैं। पहला सार्वजनिक-निजी भागीदारी वाले क्षेत्र जिसमें ऊर्जा, पर्यावरण और परिपत्र अर्थव्यवस्था शामिल है। दूसरा अवसर मुझे लॉजिस्टिक क्षेत्र में दिखाई देता है, जो काफी महत्वपूर्ण है। मैं उन तीन क्षेत्रों के भीतर डेनमार्क की कंपनियों के साथ विचार-विमर्श करना चाहूंगा। हमारे पास वैसी कंपनियां हैं जो रास खैमाह में व्यवसाय आगे बढ़ाना चाहती है। मैं उन कंपनियाें के पास वापस आऊंगा और बात करूंगा, जो मैंने आज यहां देखा। अपनी बात जारी रखते हुए उन्हाेंने कहा कि यहां बड़ा अवसर है। पूरे बंदरगाह क्षेत्र में काफी प्रतिस्पर्धाता है। मैंने यहां श्रम विभाजन भी देखा। मैं लॉजिस्टिक क्षेत्र में सबसे अच्छा अवसर देख रहा हूं, जिसे लाेग इंडस्ट्री 4.0 के नाम से पुकारते हैं। डिजिटलीकरण और लॉजिस्टिक्स की बात आने पर हम और अधिक अन्वेषण करना चाहेंगे। निष्कर्ष के रूप में उन्होंने कहा कि डेनमार्क यूएई के साथ अपने व्यापारिक संबंधों में अधिक विविधता लाना चाहता है। हमें महत्वाकांक्षी भागीदारों की आवश्यकता है। हम निश्चित रूप से महामहिम से यहां के मुक्त क्षेत्रों, बंदरगाहों, व्यक्तिगत कंपनियों, अवसर वाले क्षेत्राें काे हासिल कर आगे बढ़ेंगे। अनुवादः वैद्यनाथ झा

http://wam.ae/en/details/1395302753473

WAM/Hindi