मोहम्मद बिन जायद व मिस्र के राष्ट्रपति ने क्षेत्रीय विकासाें की समीक्षा की 


काहिरा, 15 मई, 2019 (डब्ल्यूएएम) - अबू धाबी के क्राउन प्रिंस व यूएई सशस्त्र बलों के उप सर्वोच्च कमांडर महामहिम शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान ने निर्बाध वैश्विक तेल आपूर्ति सुनिश्चित करने, समुद्री नाैपरिवहन की सुरक्षा, वैश्विक अर्थव्यवस्था काे लेकर किसी भी पक्ष द्वारा थाेड़ा भी खतरे की आशंका पैदा की काेशिश नहीं करने के लिए यूएई के दृढ़ संकल्प की फिर पुष्टि की। महामहिम शेख मोहम्मद ने कहा कि क्षेत्र को घेरने की असंख्य चुनौतियां अरब देशों के सर्वोच्च हितों की रक्षा करने वाली एक कुशल पैन-अरब रि-एक्शन की ओर इशारा करती हैं, जो सुरक्षा, स्थिरता और शांति के लिए अपने लोगों की महत्वाकांक्षाओं को प्राप्त करने में मदद करती है। देश की उत्सुकता को रेखांकित करते हुए उन्हाेंने कहा कि नवीनतम क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय घटनाक्रमों पर अरब गणराज्य मिस्र के साथ विचार-विमर्श और आदान-प्रदान जारी रखे। अबू धाबी क्राउन प्रिंस ने आज काहिरा पहुंचने पर मिस्र के राष्ट्रपति अब्देल फतह अल-सीसी के साथ बैठक के दौरान यह बयान दिया। उन्हाेंने अपने देश की सुरक्षा और स्थिरता कम करने की सभी काेशिश के खिलाफ यूएई और सऊदी अरब के साथ अपने देश की एकजुटता की फिर पुष्टि की। शेख मोहम्मद ने यूएई और सऊदी अरब की ओर मिस्र द्वारा इस संबंध में अपनाए गए सहायक रुख की सराहना करते हुए कहा कि टैंकरों काे लक्षित करना और तेल सुविधा संगीन विकास है, जो न सिर्फ प्रभावित देशाें के लिए बल्कि पूरी दुनिया के लिए खतरा पैदा करता है। अबू धाबी के क्राउन प्रिंस और यूएई सशस्त्र बलों के उप सर्वोच्च कमांडर महामहिम शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान ने मिस्र के राष्ट्रपति के साथ मुलाकात के दौरान मिस्र द्वारा प्रमुख अरब शक्ति के रूप में निभाई गई भूमिका को रेखांकित किया, जो क्षेत्रीय और विश्व मंच पर दबदबा रखने का मजा उठा रहा है। बैठक में उप प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति मामलों के मंत्री महामहिम शेख मंसूर बिन जायद अल नाहयान और विदेश व अंतर्राष्ट्रीय सहयोग मंत्री महामहिम शेख अब्दुल्ला बिन जायद अल नाहयान ने भाग लिया, कई क्षेत्र में द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ाने की संभावनाओं को संबोधित किया। शेख माेहम्मद ने कहा कि यूएई हमेशा क्षेत्रीय सुरक्षा के खतरे के स्राेत के बारे में मिस्र के नेतृत्व के साथ वैचारिक आदान-प्रदान करने के लिए उत्सुक है, जिसमें हाल ही में यूएई के पानी से दूर वाणिज्यिक जहाजाें और सऊदी में तेल सुविधाओं में ताेड़फाेड़ और आतंकी कार्रवाई शामिल हैं। शेख माेहम्मद ने कहा कि यूएई-मिस्र के संबंध क्षेत्रीय सुरक्षा और स्थिरता के लिए एक मजबूत सिद्धांत हैं, क्योंकि दोनों देश आतंकवाद और उग्रवाद का मुकाबला करने और अरब देशों के आंतरिक मामलों में मध्यस्थता करने के किसी भी प्रयास के लिए साथ मिलकर काम कर रहा है। हम दोनों एक तरह से सशस्त्र मिलिशिया के दुर्भावनापूर्ण एजेंडों के खिलाफ अपने राज्यों की रक्षा करने का प्रयास करते हैं, जो संघर्ष और विनाश से दूर सभ्य जीवन के लिए अरब देशों और यहां के लोगों के अधिकार का समर्थन करता है। मिस्र के राष्ट्रपति ने यूएई के पानी से दूर चार वाणज्यिक जहाजाें पर हमले और सऊदी अरब में तेल सुविधाओं पर तोड़फोड़ कार्रवाई की निंदा काे दोहराते हुए, दोनें घटनाक्रमों को क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा के रूप में घोषित किया। दोनों नेताओं ने अपनी सुरक्षा और स्थिरता कम करने की सभी काेशिश के खिलाफ सऊदी अरब के साथ अपनी एकजुटता की पुष्टि की। मिस्र के राष्ट्रपति ने कहा कि खाड़ी क्षेत्र की स्थिरता मिस्र की राष्ट्रीय सुरक्षा का एक अभिन्न अंग है। बैठक में भाग लेने वालाें में राज्य मंत्री डॉ. सुल्तान बिन अहमद सुल्तान अल जाबेर, सर्वोच्च राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद् के उप महासचिव अली बिन हम्माद अल शम्सी, अबू धाबी कार्यकारी मामलों के प्राधिकरण अध्यक्ष खलून खलीफा अल मुबारक, सीपीसी के अवर सचिव मोहम्मद मुबारक अल मज़रोई, सीपीसी के कार्यकारी निदेशक सुल्तान रशीद अल शम्सी, मिस्र में यूएई के राजदूत जुमा मुबारक अल-जुनैबी, एमार प्रॉपर्टीज़ के अध्यक्ष मोहम्मद अल अब्बार के साथ ही कई मंत्रियाें और मिस्र के प्रमुख अधिकारियाें ने भाग लिया। अनुवादः वैद्यनाथ झा http://wam.ae/en/details/1395302762933

WAM/Hindi