अमीराती रमजान परियोजना से लेबनान में 200,000 से अधिक लोगाें काे हुए फायदे 

बेरूत, 6 जून, 2019 (डब्ल्यूएएम) - अमीरात के रमजान इफ्तार परियाेजना से लेबनान में 200,000 से अधिक लेबनानी के साथ ही सीरियाई और फिलिस्तीनी शरणार्थियों को लाभ पहुंचा। संयोगवश सहिष्णुता वर्ष में रमजान 1440 के दौरान अमीरात के कई दान-दाता संगठनों ने परियोजना शुरू की थी। रमजान परियाेजना की देखरेख यूएई दूतावास के ह्यूमेनिटेरियन एंड डेवलमेन्ट अफेयर्स अटैची ने की। परियाेजना जायद चैरिटेबल एंड ह्यूमैनिटेरियन फाउंडेशन, खलीफा बिन जायद अल नाहयान फाउंडेशन, मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम मानवतावादी और चैरिटी प्रतिष्ठान, अमीरात रेड क्रिसेंट (ईआरसी) शारजाह चैरिटी इंटरनेशनल, ह्यूमन अपील इंटरनेशनल और दार अल बेर सोसायटी द्वारा समर्थित थी। परियाेजना में कई लेबनानी अधकारियाें के सहयाेग से अनाथाें की सहायता, भोजन व खजूर वितरण, जकात अल फितर और ईद अल-फितर कपड़ाें के साथ ही दैनिक जन इफ्तार आयोजित करना शामिल था। लेबनान में यूएई के राजदूत हमद सईद अल शम्सी ने कहा कि इस पहल का मकसद अनाथों, विधवाओं, दृढ़ निश्चय के लोगों, गरीब परिवारों व बुजुर्गों की सहायता करना था। परियाेजना के तहत लेबनान के अधिकांश शहरों और गांवों को कवर किया गया। यूएई से संबंधित परियोजनाएं स्वर्गीय शेख जायद बिन सुल्तान अल नाहयान के दृष्टिकाेण काे दर्शाती है, जो घरेलू, क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय मॉडल बन चुके हैं। उन्होंने परियाेजना की सफलता सुनिश्चित करने वाले अमीराती संगठनों, स्वयंसेवकों और रणनीतिक साझेदारों को धन्यवाद दिया। परियोजना के लाभार्थियों ने रमजान के पवित्र महीने के दौरान लेबनान में मानवीय परियोजनाएं शुरू करने पर यूएई काे धन्यवाद दिया। अनुवादः वैद्यनाथ झा http://www.wam.ae/en/details/1395302766602

WAM/Hindi