जनवरी 2020 में महिलाओं के लिए सैन्य और शांति प्रशिक्षण कार्यक्रम


न्यूयॉर्क, 10 जुलाई, 2019 (डब्ल्यूएएम) -- द युनाईटेड अरब अमीरात्स एंड यूएन वुमेन ने कल घोषणा की कि अबू धाबी में खावला बिन्त अल अलवर मिलिट्री एकेडमी फॉर वीमेन में महिलाओं के लिए सैन्य और शांति प्रशिक्षण कार्यक्रम का दूसरा दौर जनवरी 2020 में आयोजित की जाएगी। इस कार्यक्रम में अफ्रीकी और एशियाई क्षेत्र के प्रतिभागी भी शामिल होंगे, जिसे जनरल महिला संघ की अध्यक्ष, सुप्रीम काउन्सिल फॉर मदरहूड एंड चाइल्डहूड के सर्वोच्च परिषद की अध्यक्ष और फैमिली डेवलपमेंट फाउंडेशन की सुप्रीम चेयरवूमन हर हाइनेस शेखा फातिमा बिन्त मुबारक के संरक्षण में आयोजित किया जाता है। यह घोषणा आज यूएन में वीमेन पीस एंड सिक्योरिटी, चीफ ऑफ डिफेंस नेटवर्क की बैठक से पहले की गई। जिसमें यूएई भाग लेने के लिए तैयार है। इस बैठक में संयुक्त राष्ट्र के अंडर-महासचिव और संयुक्त राष्ट्र महिला के कार्यकारी निदेशक फुमज़िले मल्म्बो-न्गुका, यूएई राष्ट्रीय सेवा और रिजर्व प्राधिकरण के अध्यक्ष पायलट स्टाफ-ब्रिगेडियर शेख अहमद बिन तहन्नून बिन मोहम्मद अल नहयान और डब्ल्यूडब्ल्यूई में यूएई के प्रतिनिधिमंडल के प्रमुख ने कहा, "यूएई ने हमेशा अंतरराष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के रखरखाव और प्रचार में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका को स्वीकार किया है। सुरक्षा क्षेत्र में महिलाएं परिवारों और समुदायों को सुरक्षित रखने के लिए हर दिन योगदान देती हैं। महिलाओं को सशक्त बनाने की प्रतिबद्धता और डब्ल्यूपीएस एजेंडे ने हमें इस कार्यक्रम पर संयुक्त राष्ट्र महिलाओं के साथ भागीदारी करने के लिए प्रेरित किया, जो महिलाओं को शांति और सुरक्षा प्रयासों के लिए आवश्यक कौशल से लैस करता है। हमें यह देखकर गर्व होता है कि इसमें अफ्रीका और एशिया की महिलाएँ भी शामिल हैं।"

सामान्य महिला संघ की निदेशक नोरा अल सुवेदी ने कहा, "इस कार्यक्रम को बड़ी सफलता मिली है। हम इस कार्यक्रम का विस्तार करने और अधिक से अधिक महिलाओं को संकट के समय में मानवीय सहायता प्रदान करने के साथ राष्ट्रीय हितों की रक्षा करने से लेकर शांति और सुरक्षा को बनाए रखने में योगदान का अवसर देते हैं।"

जीसीसी में संयुक्त राष्ट्र महिला-यूएई संपर्क कार्यालय के निदेशक डॉ. मौजा अल शेही ने कहा, "हमें इस प्रयास पर संयुक्त अरब अमीरात के साथ अपनी साझेदारी का विस्तार करने में खुशी हो रही है। विशेष रूप से जब हम संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव 1325 की 20वीं वर्षगांठ मनाएंगे, जिसने महिला, शांति और सुरक्षा एजेंडा की स्थापना की।"

सितंबर 2018 में यूएई और संयुक्त राष्ट्र महिला ने समझौता पर हस्ताक्षर किए थे, जिसमें तीन महीने के सैन्य और शांति रक्षा प्रशिक्षण कार्यक्रम की बात कही गई थी। यह कार्यक्रम पहली बार जनवरी 2019 में यूएई, बहरीन, मिस्र, जॉर्डन, सऊदी अरब, सूडान और यमन की 134 अरब महिलाओं के साथ शुरू किया गया था, जिसमें दो महीने के शांति प्रशिक्षण के बाद तीन महीने के बुनियादी सैन्य प्रशिक्षण की विशेषता थी। कार्यक्रम का उद्देश्य संयुक्त राष्ट्र शांति अभियानों के लिए महिला सैन्य अधिकारियों को तैयार करना है। अनुवादः एस कुमार.

http://wam.ae/en/details/1395302773221

WAM/Hindi