यूएई के खाद्य सुरक्षा मंत्रालय और ऑस्ट्रेलिया के जेसीयू में एक्वाकल्चर पर समझौता


दुबई, 11 जुलाई, 2019 (डब्ल्यूएएम) -- यूएई ने खाद्य सुरक्षा राज्य मंत्री मरियम अल्महेरी और जेम्स कुक यूनिवर्सिटी, जेसीयू ऑस्ट्रेलिया के बीच समझौता पर हस्ताक्षर के साथ जलीय कृषि के स्थायी खाद्य उत्पादन क्षेत्र में एक विश्व-नेता बनने की अपनी महत्वाकांक्षा को रेखांकित किया है। मंत्रालय के बयान में कहा गया है कि समझौते पर कल हस्ताक्षर किए गए, जो अबू धाबी के शेख खलीफा मरीन रिसर्च सेंटर में मरीन इनोवेशन पार्क, एमआईपी से संबंधित है। इसका उद्देश्य जैव प्रौद्योगिकी, ई-प्रौद्योगिकी और जलीय कृषि में जेसीयू के ज्ञान और अनुभव का उपयोग कर न्यूनतम संसाधनों के साथ मछली, शंख और जलीय पौधों की खेती करना है मंत्री ने कहा, "इस समझौते का उद्देश्य यूएई में जलीय कृषि में एक विश्व नेता बनने और पानी की न्यूनतम मात्रा का उपयोग करके मछली और जलीय पौधों के वाणिज्यिक और उत्पादन को बढ़ाने के लिए एक महत्वपूर्ण विकास का प्रतिनिधित्व करता है। कम वार्षिक वर्षा और भूजल के हमारे सिकुड़ते स्तरों के कारण एक देश के रूप में हमारे लिए जल का विशेष महत्व है। एक्वाकल्चर खाद्य उत्पादन की एक स्थायी विधि है जो इस कीमती संसाधन के सर्वोत्तम उपयोगों में से एक का प्रतिनिधित्व करती है। हमें इस महत्वपूर्ण क्षेत्र को विकसित करने के लिए ब्लू इकोनॉमी में एक अंतर्राष्ट्रीय नेता जेसीयू के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर करने की खुशी है।"

समझौते के तहत आठ महीने में जेसीयू मरीन इनोवेशन पार्क के लिए एक रणनीतिक योजना विकसित करने के लिए यूएई के साथ काम करेगा। इस दौरान विश्वविद्यालय यूएई में उद्योग, सरकार और शिक्षा हितधारकों के साथ मिलकर एमआईपी के लिए अवसरों और विकास की समयसीमा की पहचान करेगा। जेसीयू को लगातार पर्यावरण प्रबंधन आर एंड डी के लिए दुनिया के अग्रणी संस्थानों में से एक माना गया है। जेसीयू की चांसलर प्रोफेसर सैंड्रा हार्डिंग ने कहा कि जेसीयू को जलीय कृषि और ई-प्रौद्योगिकी में विश्व नेता बनने की महत्वाकांक्षा में यूएई का सहयोग करने में खुशी हो रही है। अनुवादः एस कुमार.

http://wam.ae/en/details/1395302773477

WAM/Hindi