डीएक्सबी ने क्षेत्र के सबसे बड़े एयरपोर्ट सोलर इनर्जी सिस्टम की स्थापना की

  • dxb installs region's largest airport solar energy system 2
  • dxb installs region's largest airport solar energy system 1

दुबई, 15 जुलाई, 2019 (डब्ल्यूएएम) -- दुबई एयरपोर्ट्स और एतिहाद एनर्जी सर्विसेज कंपनी क्षेत्र के सबसे बड़े एयरपोर्ट सोलर इनर्जी सिस्टम की स्थापना की घोषणा की है। इसमें दुबई एयरपोर्ट के अंतर्राष्ट्रीय टर्मिनल 2 पर 15,000 फोटोवोल्टिक पैनल शामिल हैं। 5MWp की क्षमता वाले सौर परियोजना से दुबई हवाई अड्डों को सालाना 7,483,500 kWh ऊर्जा मिलेगी, जिससे एईडी3.3 मिलियन की बचत होगी। यह परियोजना मौजूदा टर्मिनल 2 के भार को लगभग 29 प्रतिशत कम कर देगी, जबकि वार्षिक CO2 उत्सर्जन में 3,243 मीट्रिक टन की कमी लाएगी, जो 10 वर्षों के लिए उगाए गए 53,617 वृक्षों के बराबर है या एक वर्ष के लिए 688 यात्री वाहन के संचालन जितना है। एतिहाद ESCO एक ऊर्जा सेवा कंपनी है और दुबई बिजली और जल प्राधिकरण, DEWA की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी है। यह परियोजना शम्स दुबई, DEWA की पहली स्मार्ट पहल का हिस्सा है, जिसका उद्देश्य स्वच्छ अक्षय ऊर्जा स्रोतों के उपयोग को बढ़ावा देना है। कार्यक्रम सौर ऊर्जा से बिजली उत्पन्न करने के लिए छतों पर सौर पैनलों की स्थापना को प्रोत्साहित करता है और इसे हस्तांतरित करने के लिए DEWA की ग्रिड से जोड़ता है। एतिहाद ESCO सात साल की अवधि के लिए दुबई हवाई अड्डों के लिए रखरखाव सेवाएं प्रदान करेगा। दुबई एयरपोर्ट्स के इन्फ्रास्ट्रक्चर एंड टेक्नोलॉजी के कार्यकारी उपाध्यक्ष माइकल इब्बिटसन ने कहा, "2030 तक कार्बन फुटप्रिंट को सीमित करने और शहर के बिजली की खपत में 30 प्रतिशत की कमी के लक्ष्य में दुबई की सहायता करने के लिए दुबई एयरपोर्ट्स ने पिछले कई वर्षों में कई तरह की हरित पहल की है।"

एतिहाद ESCO के सीईओ, अली अल जसीम ने कहा, "फोटोवोल्टिक सौर पैनलों की स्थापना के लिए दुबई हवाई अड्डों के साथ हमारी साझेदारी हमें ऊर्जा दक्षता और विकास में एक भूमिका निभाने का अवसर देती है। दुबई एयरपोर्ट्स और एतिहाद ईएससीओ के बीच मौजूदा साझेदारी इसके विस्तार को चिह्नित करता है। हमने अक्टूबर 2017 में ऊर्जा दक्षता बढ़ाने, 20 प्रतिशत पानी और बिजली की खपत में कटौती करने के लिए डीएक्सबी के टर्मिनलों 1, 2 और 3 के रेट्रोफिटिंग के लिए एक समझौते पर हस्ताक्षर किए थे।"

अनुवादः एस कुमार.

http://www.wam.ae/en/details/1395302774173

WAM/Hindi