यूएई के मंत्री ने वाशिंगटन में सांस्कृतिक कूटनीति पर चर्चा की

  • زكي نسيبة : الدبلوماسية الثقافية للامارات خلقت أدوات جديدة لإنشاء شراكات عالمية طويلة الأمد
  • زكي نسيبة : الدبلوماسية الثقافية للامارات خلقت أدوات جديدة لإنشاء شراكات عالمية طويلة الأمد
  • زكي نسيبة : الدبلوماسية الثقافية للامارات خلقت أدوات جديدة لإنشاء شراكات عالمية طويلة الأمد
  • زكي نسيبة : الدبلوماسية الثقافية للامارات خلقت أدوات جديدة لإنشاء شراكات عالمية طويلة الأمد

वाशिंगटन, डी. सी., 24 अगस्त, 2019 (डब्ल्यूएएम) -- यूएई के राज्यमंत्री जकी नुसेबीह ने यूएई में सांस्कृतिक कूटनीति के इतिहास पर कई चर्चाओं में भाग लेने के लिए इस सप्ताह वाशिंगटन, डीसी का दौरा किया। मंत्री नुसेबीह वाशिंगटन डी.सी. में यूएई के दूतावास में एक प्रेजेंटेशन व चर्चा में भाग लिया। दूतावास में चर्चा के दौरान मंत्री नुसेबीह ने यूएई के संस्थापक और प्रथम राष्ट्रपति स्वर्गीय शेख जायद बिन सुल्तान अल नाहयान के जीवन का हवाला देते हुए कहा, "आज शेख जायद की विरासत अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ संबंधों को विकसित करने, पोषण करने और सांस्कृतिक आदान-प्रदान को बढ़ावा देने पर जोर देती है। नुसेबीह ने कहा, "आगे बढ़ने का एकमात्र तरीका अन्य संस्कृतियों और सभ्यताओं के साथ संबंध और सहयोग स्थापित करना, विश्वास और एकजुटता के पुल का निर्माण करना है, जो सभी देशों में समृद्धि और प्रगति लाए।"

यह चर्चा स्मिथसोनियन इंस्टीट्यूशन के एम्बेसडर-एट-लार्ज डॉ. रिचर्ड कुरिन द्वारा संचालित की गई थी। इस चर्चा में करीब 100 से अधिक मेहमानों की उपस्थिति थी, जो व्यवसाय, राजनीतिक, पुरातत्व, वास्तुकला, सांस्कृतिक, कला और अन्य क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व कर रहे थे। वाशिंगटन डी.सी. के वार्षिक गाला डिनर में प्रोटोकॉल स्कूल में मुख्य भाषण देने के लिए मंत्री नुसेबेह को वाशिंगटन आमंत्रित किया गया था। प्रोटोकॉल स्कूल, जो दुनिया भर के प्रोटोकॉल व्यापार शिष्टाचार और संचार कौशल में विशेषज्ञता प्रदान करता है, ने उच्चतम शैक्षणिक मानकों का उपयोग करते हुए अमीराती प्रोटोकॉल अधिकारियों, राजनयिकों और कई यूएई सरकारी और निजी क्षेत्रों के व्यावसायिक नेताओं को प्रशिक्षित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। द प्रोटोकॉल स्कूल ऑफ वाशिंगटन के अध्यक्ष पामेला ईयरिंग ने कहा, "हमारे स्कूल के लिए यह गर्व का क्षण है कि हिज हाइनेस जकी नुसेबीह हमारे ग्लोबल एजुकेशन समिट की 30वीं वर्षगांठ पर अपने 'ज्ञान के मोती' साझा किए हैं।"

वाशिंगटन, डी.सी. में अपने दौरे के दौरान, मंत्री नुसेबीह ने नेताओं के साथ मुलाकात की और कई संग्रहालयों का दौरा किया, जिसमें नेशनल गैलरी ऑफ आर्ट, हिर्शहॉर्न म्यूजियम और स्कल्पचर गार्डन और अफ्रीकी अमेरिकी इतिहास संग्रहालय शामिल हैं। अनुवादः एस कुमार.

http://wam.ae/en/details/1395302781429

WAM/Hindi