मासिक सहिष्णुता बुलेटिनः अमीरात की सार्वजनिक घटनाओं में सहिष्णुता के मूल्य दिखे


अबू धाबी, 4 सितम्बर, 2019 (डब्ल्यूएएम) -- संयुक्त अरब अमीरात के लगातार सांस्कृतिक, धार्मिक भाईचारे व शांतिपूर्ण सहअस्तित्व को बढ़ावा देने की कोशिशों के तहत यूएई में पिछले महीने के दौरान प्रमुख घटनाक्रमों व गतिविधियों में सहिष्णुता के मूल्यों का वर्चस्व रहा। ईद-अल अदहा के अवसर पर यूएई के राष्ट्रपति हिज हाइनेस शेख खलीफा बिन जायद अल नाहयान ने विभिन्न राष्ट्रीयताओं के 669 कैदियों को रिहा करने का आदेश दिया, जिससे उनके परिजनों के बीच खुशी की लहर दौड़ गई। शेख खलीफा ने रिहा कैदियों के वित्तीय दायित्वों को निपटाने का भी वादा किया है। राष्ट्रपति ने न केवल इन कैदियों को नया जीवन शुरू करने का अवसर प्रदान किया है, बल्कि उनके परिवारों की पीड़ा को कम करने की कोशिश भी की है। राष्ट्रपति के इस कदम के बाद सर्वोच्च महासभा के सदस्यों और अमीरात के शासकों ने भी इसी तरह के क्षमादान दिए। विश्व स्तर पर, लेबनान में यूएई दूतावास ने कुर्बानी के मांस और ईद के कपड़ों के वितरण की देखरेख की, जो कि यूएई बिन सुल्तान अल नाहयान धर्मार्थ और मानवतावादी फाउंडेशन, मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम मानवतावादी और चैरिटी प्रतिष्ठान, अमीरात रेड सहित कई यूएई चैरिटी द्वारा प्रदान किए जाते हैं। इस कदम से आंतरिक रूप से विसथापित 24,000 सीरियाई और फिलिस्तीनी शरणार्थियों व लेबनानी आंतरिक विस्थापितों को फायदा हुआ है। कैथोलिक चर्च के पोप फ्रांसिस और अल अजहर के ग्रैंड इमाम डॉ. अहमद अल-तैयब द्वारा पिछले फरवरी में यूएई की राजधानी में हस्ताक्षरित 'मानव भ्रातृ दस्तावेज' को लागू करने के लिए अबू धाबी में उच्च समिति का गठन ''सहिष्णुता के वर्ष'' के अवसर पर मील का पत्थर साबित हुआ है। समिति में धार्मिक हस्तियां, बुद्धिजीवी और मीडिया हस्तियां शामिल हैं। अबू धाबी के क्राउन प्रिंस और यूएई सशस्त्र बलों के उप सुप्रीम कमांडर हिज हाइनेस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान ने कहा कि समिति के गठन से सहिष्णुता, सहयोग और सह-अस्तित्व को बढ़ावा देने की पहल और विचारों की साझा दृष्टि को लागू करने में मदद मिलेगी। । उन्होंने आगे कहा कि यूएई उन सभी प्रयासों का समर्थन करता है जो शांति को बढ़ावा देते हैं और दुनिया भर में भाईचारे और शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व के सिद्धांतों का प्रसार करते हैं। समिति को विश्व शांति और जीवन जीने के लिए मानव भ्रातृत्व पर दस्तावेज़ '' के उद्देश्यों को सुनिश्चित करने के लिए एक रूपरेखा विकसित करने का काम सौंपा गया है। यह दस्तावेज़ को कार्यान्वित करने के लिए आवश्यक योजनाएं भी तैयार करेगा, साथ ही क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तरों पर इसके कार्यान्वयन का पालन करेगा। यह इस ऐतिहासिक दस्तावेज़ के पीछे विचार का समर्थन और प्रसार करने के लिए धार्मिक नेताओं, अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के प्रमुखों और अन्य लोगों के साथ बैठकें करेगा। उच्च समिति विधायी प्राधिकारियों से यह भी आग्रह करेगी कि वे राष्ट्रीय कानून में दस्तावेज़ के प्रावधानों का पालन करें, ताकि आपसी सम्मान और सह-अस्तित्व के मूल्यों को स्थापित किया जा सके। यह इब्राहीम फैमिली हाउस की देखरेख भी करेगा। समिति आपसी समझौते से नए सदस्यों में एक सूत्र में बांध सकती है। ह्यूमन फ्रेटर्निटी दस्तावेज़ - अबू धाबी घोषणापत्र फरवरी में जारी किया गया था। यह मानवता को एकजुट करने और विश्व शांति की दिशा में काम करने के प्रयासों की एक संयुक्त घोषणा थी, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि आने वाली पीढ़ी आपसी सम्मान और स्वस्थ सह-अस्तित्व के माहौल में रह सकें। यूएई में पोप की ऐतिहासिक यात्रा के दौरान दस्तावेज़ पर हस्ताक्षर किए गए थे। ह्यूमन फ्रेटरनिटी डॉक्यूमेंट पर हस्ताक्षर करने से इंटरएफेथ संवाद और साझा मूल्यों को बढ़ावा देने के लिए यूएई की प्रतिबद्धता का प्रदर्शन हुआ है, जिसमें सभी धर्मों और धर्मों के लोगों के बीच सहिष्णुता और शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व शामिल है। घोषणा को अंतर्राष्ट्रीय विश्वास नेताओं से सकारात्मक प्रतिक्रियाएं और सराहना मिली है। पोप फ्रांसिस ने मानव बिरादरी को बढ़ावा देने के लिए नई समिति के गठन का स्वागत किया और दस्तावेज में निहित आदर्शों को बढ़ावा देने के लिए संयुक्त अरब अमीरात के लिए अपनी प्रशंसा व्यक्त की। पोप ने समिति के काम को प्रोत्साहित किया और "मानव बिरादरी की ओर से दिखाई गई ठोस प्रतिबद्धता के लिए" संयुक्त अरब अमीरात को धन्यवाद दिया। उन्होंने यह भी उम्मीद जताई कि इसी तरह की पहल दुनिया के अन्य हिस्सों में भी हो सकती है। अल अजहर के ग्रैंड इमाम और मुस्लिम काउंसिल ऑफ एल्डर्स के चेयरमैन डॉ. शेख अहमद एल तैय्यब ने 'मानव भ्रातृ दस्तावेज ’के उद्देश्यों को लागू करने के लिए एक समिति की स्थापना की सराहना की है। ग्रैंड इमाम ने गुरुवार के बयान में कहा कि समिति का गठन "ह्यूमन फ्रेटर्निटी दस्तावेज़ के उद्देश्यों को प्राप्त करने की दिशा में एक गंभीर कदम है, जिसे भाईचारा, सह-अस्तित्व की संस्कृति की स्थापना के लिए हमारे आधुनिक इतिहास में अपनी तरह का पहला माना जाता है।"

डॉ. एल तैयब ने यह भी जोर देकर कहा कि इस समिति की स्थापना पूरे विश्व में एकजुटता, एकता, सह-अस्तित्व, भाईचारा और सहिष्णुता प्राप्त करने के महत्वपूर्ण लक्ष्य को पूरा करती है। ग्रैंड इमाम ने आगे कहा, "इस दस्तावेज़ के सिद्धांतों का प्रसार और इसका कार्यान्वयन निश्चित रूप से पूरी दुनिया में सुरक्षा और स्थिरता प्राप्त करने में एक लंबा रास्ता तय करेगा।"

ज़ायद हायर ऑर्गेनाइजेश (जेडएचओ) और मुस्लिम काउंसिल ऑफ़ एल्डर्स ने नेत्रहीनों के लिए ह्यूमन फ्रेटर्निटी दस्तावेज का अनुवाद ब्रेल में कराया है, ताकि लोगों के बीच जागरूकता बढ़ सके। जेडएचओ ने अरबी और अंग्रेजी ब्रेल दस्तावेज का का अनुवाद करने और मिशन को फैलाने के लिए 100 प्रतियां मुद्रित करने करने को कहा है, जिससे समाज के सभी वर्गों के बीच सहिष्णुता, सहयोग और सह-अस्तित्व बढ़ेगा। 28 अगस्त को, यूएई ने ''वीमेन आइकॉन ऑफ टॉलरेंस '' थीम के तहत अमीराती महिला दिवस को चिह्नित किया। जनरल वुमेन यूनियन की अध्यक्ष, सुप्रीम काउंसिल फॉर मदरहुड एंड चाइल्डहुड की अध्यक्ष, और परिवार विकास फाउंडेशन की सर्वोच्च अध्यक्ष, हर हाइनेस शेखा फातिमा बिन्त मुबारक के निर्देशों के तहत परिवारों और समुदायों के बीच सहिष्णुता के मूल्यों को बढ़ावा देने में महिलाओं की भूमिका को पहचानने के लिए देश भर में कई आयोजन हुए। 19 अगस्त को विश्व मानवतावादी दिवस को चिह्नित करने के लिए, यूएई वाटर एड फाउंडेशन, सुकिया, मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम ग्लोबल इनिशिएटिव्स, ने ने घोषणा की कि 2018 के अंत तक 34 देशों में सुकिया की परियोजनाओं से 9 मिलियन से अधिक लोगों को मदद मिली है। यूएई दुनिया में मानवीय सहायता के क्षेत्र में सबसे बड़े दानदाताओं में से एक बन गया है। जरूरतमंदों के जीवन में सुधार करना यूएई की विदेश सहायता नीति का एक प्रमुख उद्देश्य है। सुकिया ने संबंधित स्थानीय और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के सहयोग से, पानी की कमी और प्रदूषण से पीड़ित समुदायों को सुरक्षित पेयजल उपलब्ध कराने के अपने प्रयासों को जारी रखने के वायदों को पूरा किया है। सामुदायिक विकास मंत्रालय, एमओसीडी ने घोषणा की है कि 2018 के अंत तक, मंत्रालय द्वारा 223 संघों, गैर-लाभकारी संगठनों, गैर-सरकारी संगठनों और सामाजिक ताकफुल निधियों का प्रबंधन और पर्यवेक्षण किया गया था। इस सूची में 185 एसोसिएशन, 17 ताकफुल फंड और 21 एनजीओ मंत्रालय के डेटाबेस में पंजीकृत हैं। मंत्रालय ने कहा कि यूएई में नागरिक समाज संगठन समाज की उन्नति और विकास में एक प्रमुख और ठोस भूमिका निभाते हैं। अबू धाबी के क्राउन प्रिंस और सशस्त्र बलों के उप सर्वोच्च कमांडर हिज हाइनेस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान के संरक्षण में अक्दार वर्ल्ड समिट का आयोजन रूस की राजधानी मास्को में 29 अगस्त से 1 सितंबर 2019 के बीच थीम "ग्लोबल इम्पॉवरमेन्ट ऑफ कम्युनिटीजः एक्सपीरिएंसेज एंड लेसंस लर्न्ड" के तहत हुआ। शिखर सम्मेलन के तीसरे संस्करण में समुदायों के सशक्तीकरण पर बौद्धिक और सांस्कृतिक आयामों पर चर्चा की गई, जो सभी राष्ट्रों को एक समृद्ध, सुरक्षित और स्थिर भविष्य प्रदान करेगा। 4-दिवसीय कार्यक्रम में एक मुख्य सम्मेलन, एक वैश्विक प्रदर्शनी, कार्यशालाओं और विभिन्न पैनल चर्चाओं की विशेषता वाली कई गतिविधियां शामिल हैं। मॉस्को ग्लोबल फोरम के समानांतर चलने वाले अक्दार वर्ल्ड समिट में आठ मंत्रियों सहित यूएई के 12 शीर्ष अधिकारियों की अनूठी भागीदारी दिखी। शीर्ष वक्ताओं ने तीन मुख्य विषयों पर ध्यान केंद्रित करते हुए शिक्षा, संस्कृति, प्रौद्योगिकी और अन्य क्षेत्रों में मानव सशक्तिकरण से संबंधित विभिन्न विषयों पर चर्चा की। इस दौरान शिक्षा और राष्ट्रीय सेवा, संयुक्त अरब अमीरात के युवा, तकनीकी, बौद्धिक और खाद्य सुरक्षा को सशक्त बनाने के लिए बुनियादी ढांचे आदि विषयों पर भी चर्चा की गई। अनुवादः एस कुमार.

http://wam.ae/en/details/1395302783856

WAM/Hindi