वर्ल्ड एनर्जी कांग्रेस 2019 अबू धाबी में शुरु


अबू धाबी, 9 सितंबर, 2019 (डब्ल्यूएएम) -- 150 देशों के मंत्रियों, मुख्य कार्यकारी अधिकारियों, नीति-निर्माताओं और उद्योग जगत के प्रमुखों की उपस्थिति में ऊर्जा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण नवाचारों का पता लगाने व नई रणनीतियों के लिए 24वें वर्ल्ड एनर्जी कांग्रेस का आगाज आज अबू धाबी में हुआ। "एनर्जी फॉर प्रॉस्पेरिटी" विषय के तहत, एनर्जी कांग्रेस आज वैश्विक ऊर्जा उद्योग का सामना करने वाले सबसे महत्वपूर्ण मुद्दों को संबोधित करने के लिए डिज़ाइन किए गए चार दिवसीय इंटरैक्टिव कार्यक्रम के माध्यम से प्रतिनिधियों का नेतृत्व करती है। यह आयोजन, जो अबू धाबी राष्ट्रीय प्रदर्शनी केंद्र में 9 से 12 सितंबर तक चलता है, दुनिया की प्रमुख ऊर्जा सभा है, जो प्रतिभागियों को ऊर्जा के मुद्दों और वैश्विक परिप्रेक्ष्य से समाधान को बेहतर ढंग से समझने का एक अनूठा अवसर प्रदान करता है। वर्ल्ड एनर्जी काउंसिल के चेयरमैन, यंगघून डेविड किम ने अपनी शुरुआती टिप्पणियों में कहा कि संयुक्त अरब अमीरात केन्द्रीकृत ऊर्जा उद्योग से इतर विविध ज्ञान की तरफ जाते हुए सस्टेनबल एनर्जी के भविष्य का अगुआ बन गया है। उन्होंने सस्टेनबल ऊर्जा उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए "ट्रेलब्लैजिंग" प्रौद्योगिकियों के महत्व और "तत्काल आवश्यकता" का उल्लेख किया, जो वैश्विक समुदाय के लिए स्वीकार्य हैं और भविष्य की पीढ़ियों के लिए जिम्मेदार हैं। किम ने आगे कहा, "हम बदलावकारी प्रौद्योगिकियो की लहर पर सवार होने के लिए अब पहले से कहीं अधिक तैयार हैं"। उन्होंने कहा कि एक बार वैश्विक ऊर्जा समुदाय नवाचार के बारे में गंभीर हो जाएगा, तो ऊर्जा क्रांति में गति आएगी। किम की टिप्पणियों का साथ देते हुए राज्य मंत्री और एडीएनओसी समूह के सीईओ डॉ. सुल्तान अल जबेर ने कहा कि उद्योग का मुख्य मिशन "स्थायी रूप से आर्थिक विकास के लिए आवश्यक ऊर्जा प्रदान करना है।"

उन्होंने कहा, "अगले दो दशकों में वैश्विक ऊर्जा मांग में वर्तमान में खपत की गई ऊर्जा की तीन गुना से अधिक मात्रा वैश्विक ऊर्जा की मांग में जुड़ जाएगी। इस मांग को पूरा करने के लिए, हमें एक समावेशी प्रतिक्रिया की आवश्यकता होगी, जो पूरी तरह से विविध ऊर्जा मिश्रण को एकीकृत और अनुकूलित करे।"

डॉ. अल जबेर ने कहा, "यहां संयुक्त अरब अमीरात में, हमारे नेतृत्व ने एक पारिस्थितिकी तंत्र बनाया है, जो तेल और गैस से लेकर नवीकरण और परमाणु ऊर्जा तक सभी प्रकार की ऊर्जा की सहायता करता है। हम जानते हैं कि आने वाले कई दशक तक बिजली के लिए दुनिया अभी भी तेल और गैस पर निर्भर करेगी। एडीएनओसी में हम 2020 तक प्रति दिन चार मिलियन बैरल तेल के उत्पादन की क्षमता और 2030 तक पांच मिलियन बैरल हासिल करने की राह पर हैं। समानांतर में, गैस कैप, अविकसित जलाशयों और अपरंपरागत संसाधनों में दोहन से हम प्राकृतिक गैस के विशाल भंडार को खोल रहे हैं।"

डॉ. अल जाबेर ने इस बात पर प्रकाश डाला कि वर्तमान अनुमानित मांग के साथ तेल और गैस में लगभग 11 ट्रिलियन डॉलर के निवेश की आवश्यकता है। यूएई के नेतृत्व ने दुनिया के ऊर्जा बाजारों के लिए एक विश्वसनीय आपूर्तिकर्ता बने रहने के लिए महत्वाकांक्षी लक्ष्य निर्धारित किए हैं। उन्होंने कहा कि ऐसी दुनिया में जिसे कम उत्सर्जन के साथ अधिक ऊर्जा की आवश्यकता होती है, ए़डीएनओसी जिम्मेदार उत्पादन को प्राथमिकता देना जारी रखेगी, क्योंकि यह अपने परिचालन का विस्तार करता है। डॉ. अल जाबेर ने कहा कि "हम दुनिया में कम से कम कार्बन-सघन बैरल का उत्पादन करते हैं।"

90 साल पहले विश्व ऊर्जा परिषद के गठन के बाद पहली बार विश्व ऊर्जा कांग्रेस का आयोजन मध्य पूर्व में किया जा रहा है। अनुवादः एस कुमार.

http://wam.ae/en/details/1395302785083

WAM/Hindi