एडीएएनओसी समूह के सीईओ ने संभावित सहयोग पर रूसी ऊर्जा मंत्री से मुलाकात की


अबू धाबी, 11 सितंबर, 2019 (डब्ल्यूएएम) -- संयुक्त अरब अमीरात के राज्य मंत्री और अबू धाबी नेशनल ऑयल कंपनी के ग्रुप सीईओ डॉ. सुल्तान अहमद अल जाबेर और रूस के ऊर्जा मंत्री लेक्जेंडर नोवाक सहयोग के लिए संभावित अवसरों का पता लगाने के लिए मुलाकात की। एडीएनओसी अपनी रणनीतिक साझेदारी और निवेश आधार का विस्तार करना चाहता है। डॉ. अल जबेर और नोवाक के बीच चर्चा अबू धाबी में विश्व ऊर्जा कांग्रेस की 24 वीं बैठक के दौरान हुई। इससे पहले वे जुलाई 2019 में मॉस्को में मिले थे। डॉ. अल जबेर ने कहा: "संयुक्त अरब अमीरात और रूस के बीच मौजूद मजबूत द्विपक्षीय संबंधों में निर्माण, ऊर्जा मुद्दों पर आगे सहयोग की महत्वपूर्ण क्षमता है। एडीएनओसी पूर्ण मूल्य श्रृंखला के रूप में साझेदारी और सह-निवेश के अवसरों की खोज करने के लिए खुला है। हम नए वैश्विक साझेदारों के साथ संबंध विकसित करना चाहते हैं, जो सामरिक, मूल्य वर्धित और वाणिज्यिक भागीदारी के लिए हमारी दूरदर्शिता और दृढ़ संकल्प को साझा करते हैं। "

यात्रा के दौरान, मंत्री नोवाक ने अबू धाबी का दौरा किया और एडीएनओसी के अग्रणी पैनोरमा डिजिटल कमांड सेंटर का दौरा किया। इस सेंटर में एडीएनओसी बड़े पैमाने पर बिग डेटा व आर्टिफिशियल इंटेलीजेन्स का उपयोग कर रहा है। अलेक्जेंडर नोवाक ने कहा कि रूस यूएई के साथ अपस्ट्रीम और डाउनस्ट्रीम ऊर्जा क्षेत्र में साझेदारी के अवसरों का पता लगाने का इच्छुक है। उन्होंने कहा, "ऊर्जा के क्षेत्र में सहयोग की बहुत अधिक संभावना है। रूस और यूएई की कंपनियों के बीच सहयोग के लिए अग्रणी क्षेत्र हाइड्रोकार्बन में व्यापारिक गतिविधियों के विकास के साथ-साथ खनन और व्यापार के क्षेत्र में संयुक्त परियोजनाएं हैं।"

रूस के पास सबसे बड़ा प्राकृतिक गैस भंडार है और दुनिया में किसी भी देश का आठवां सबसे बड़ा तेल भंडार है। रूस और यूएई के बीच द्विपक्षीय व्यापार 2018 में 21 प्रतिशत बढ़कर लगभग 11 बिलियन एईडी हो गया। पिछले साल अबू धाबी के क्राउन प्रिंस और यूएई सशस्त्र बलों के उप सुप्रीम कमांडर शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान ने रूस का दौरा किया था। इस दौरान वह राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से मिले और दोनों नेताओं ने राजनीतिक, सुरक्षा और आर्थिक सहित कई क्षेत्रों में रणनीतिक साझेदारी की घोषणा पर हस्ताक्षर किए थे। एडीएनओसी 2020 तक अपनी कच्चे तेल की उत्पादन क्षमता को बढ़ाकर 4 मिलियन बैरल प्रति दिन और 2030 तक 4 मिलियन बैरल प्रति दिन करने की कोशिश में है। यह न केवल आत्मनिर्भर है बल्कि शुद्ध प्राकृतिक गैस का निर्यातक भी है। अनुवादः एस कुमार.

http://www.wam.ae/en/details/1395302785901

WAM/Hindi