विमानन क्षेत्र 2037 तक यूएई की जीडीपी में 80 बिलियन डॉलर जोड़ सकता हैः आईएटीए स्टडी 


अबू धाबी, 8 अक्टूबर, 2019 (डब्ल्यूएएम) -- इंटरनेशनल एयर ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन (आइएटीए) ने संयुक्त अरब अमीरात में हवाई परिवहन के महत्व पर अपना नवीनतम अध्ययन प्रस्तुत किया है। इस अध्ययन में बताया गया है कि यूएई का विमानन क्षेत्र वर्ष 2037 तक देश की जीडीपी में 80 बिलियन डॉलर जोड़ सकता है, साथ ही यह अतिरिक्त रूप से 620,000 नई नौकरियों का सृजन कर सकता है। आइएटीए अध्ययन के अनुसार, यूएई अर्थव्यवस्था में हवाई परिवहन का योगदान पहले से ही महत्वपूर्ण है। वर्तमान में इस उद्योग में लगभग 800,000 लोग लगे हुए हैं। साथ यह अर्थव्यवस्था के 47.4 बिलियन डॉलर का योगदान देता है, जो संयुक्त अरब अमीरात के सकल घरेलू उत्पाद का 13.3 प्रतिशत है। अध्ययन से पता चला है कि अगर सरकार उड्डयन के लिए सकारात्मक एजेंडा बनाना जारी रखती है, तो यूएई का विमानन बाजार 2037 तक 170 प्रतिशत बढ़ जाएगा। इससे 1.4 मिलियन नौकरियों के सृजन की संभावना है और यह देश की अर्थव्यवस्था में 128 बिलियन डॉलर का योगदान करेगा। अध्ययन के निष्कर्षों पर टिप्पणी करते हुए, मध्य पूर्व के आईएटीए के क्षेत्रीय उपाध्यक्ष, मुहम्मद अली अलबकरी ने कहा, "पिछले 25 वर्षों में, यूएई ने आर्थिक परिवर्तन का अनुभव किया है; विमानन इस विकास के केंद्र में रहा है।"

अलबकरी ने आगे कहा, "आज संयुक्त अरब अमीरात हवाई व्यापार सुगमता के लिए विश्व स्तर पर नंबर एक स्थान पर है। वीजा के खुलेपन के मामले में मध्य पूर्व क्षेत्र में सबसे ऊपर है। यूएई का विमानन क्षेत्र एक पावरहाउस है, जो देश के ध्वज को दुनिया के सभी कोनों में ले जाता है।"

अलबकरी ने कहा, "देश को एक अग्रणी वैश्विक विमानन केंद्र के रूप में बनाए रखने के लिए पर्याप्त वायु अंतरिक्ष क्षमता, विकास के लिए बुनियादी ढांचा निवेश और नई तकनीक का तेजी से कार्यान्वयन आवश्यक है।"

अनुवादः एस कुमार.

https://wam.ae/en/details/1395302793142

WAM/Hindi