नेतृत्व ने ऊर्जा के भविष्य के लिए दूरदर्शी दृष्टि रखी है, यूएई सरकार की बैठक में सुल्तान अल जाबेर ने कहा


अबू धाबी, 25 नवंबर, 2019 (डब्ल्यूएएम) -- यूएई के उपराष्ट्रपति और प्रधानमंत्री और दुबई के शासक हिज हाइनेस शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम और अबू धाबी के क्राउन प्रिंस और यूएई के सशस्त्र बलों के उप सर्वोच्च कमांडर हिज हाइनेस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नहयान ने "द फ्यूचर ऑफ ऑयल" के तहत सत्र में भाग लिया, जो यूएई सरकार की बैठक के तहत सोमवार को अबू धाबी में शुरू किया गया। सत्र में दुबई के क्राउन प्रिंस हिज हाइनेस शेख हमदान बिन मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम; क्राउन प्रिंस और शारजाह के उप शासक हिज हाइनेस शेख सुल्तान बिन मोहम्मद बिन सुल्तान अल कासिम; अजमान के क्राउन प्रिंस हिज हाइनेस शेख अम्मार बिन हमैद अल नूमी; फुजैराह के क्राउन प्रिंस हिज हाइनेस शेख मोहम्मद बिन हमद बिन मोहम्मद अल शर्की; उम्म अल क्वैन के क्राउन प्रिंस हिज हाइनेस शेख राशिद बिन सऊद बिन राशिद अल मुल्ला और रास अल खैमा के क्राउन प्रिंस हिज हाइनेस शेख मोहम्मद बिन सऊद बिन शक अल कासिमी ने भी भाग लिया। बैठक में यूएई के राज्य मंत्री और एडीएनओसी समूह के सीईओ डॉ. सुल्तान अल जाबेर ने इस बात पर प्रकाश डाला कि यूएई नेतृत्व के विजन ने ऊर्जा और तेल के भविष्य के लिए एक दीर्घकालिक दूरगामी दृष्टि स्थापित की है, जिसका उद्देश्य सेक्टर में यूएई के अग्रणी और उन्नत स्टैंडिंग को बढ़ाना है। उन्होंने नवाचार और प्रौद्योगिकी को अपनाने के द्वारा संस्थागत विकास और आधुनिकीकरण के लिए एडीएनओसी द्वारा प्राप्त गुणात्मक छलांग पर प्रकाश डाला। सुल्तान अल जाबेर ने कहा, "प्रज्ञ नेतृत्व के निर्देशों और अबू धाबी के क्राउन प्रिंस और यूएई सशस्त्र बल के उप सर्वोच्च कमांडर हिज हाइनेस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नहयान के सहयोग और अनुसरण के अनुरूप एडीएनओसी ने सभी व्यापारिक चरणों और पहलुओं में मूल्य बढ़ाने के लिए एक व्यापक रणनीतिक बदलाव शुरू किया है। इस रणनीतिक बदलाव का उद्देश्य हिज हाइनेस की दृष्टि को प्राप्त करना है जो तेल अर्थव्यवस्था की रीढ़ है। साथ ही जिसने स्थापना और सशक्तीकरण के प्रयासों को सक्षम बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।"

उन्होंने कहा कि आने वाले दशकों में तेल की मांग में वृद्धि जारी रहेगी, जो उभरती हुई एशियाई अर्थव्यवस्थाओं से मांग की वृद्धि से प्रेरित है। यहां तक कि अक्षय और वैकल्पिक ऊर्जा की तैनाती के लिए सबसे महत्वाकांक्षी परिदृश्यों में तेल और गैस ऊर्जा की वैश्विक मांग के आधे से अधिक को पूरा करने के लिए जिम्मेदार रहेंगे। आर्थिक विकास के विविधीकरण और स्थिरता में योगदान करने के लिए मूल्य श्रृंखला के सभी चरणों और पेट्रोकेमिकल्स और विनिर्माण उद्योगों में निवेश के दौरान प्रदर्शन में सुधार करना आवश्यक है। उत्पादन की लागत को कम करने पर ध्यान निरंतरता में एक प्रमुख कारक है और हाइड्रोकार्बन भंडार के निवेश को लम्बा खींचता है। उन्होंने संस्थागत विकास की गुणात्मक छलांग की उपलब्धि के लिए मुख्य सिद्धांतों पर भी प्रकाश डाला। एडीएनओसी के सीईओ ने कहा कि एडीएनओसी ने उत्पादन क्षमता में वृद्धि करते हुए लागत को कम करने पर ध्यान केंद्रित किया है। अल जाबेर ने जोर देकर कहा कि व्यापार की निरंतर वृद्धि और अन्वेषण प्रयासों के कारण गैस के भंडार में 7 बिलियन बैरल तेल और 168 बिलियन क्यूबिक फीट की वृद्धि हुई। परिणामस्वरूप यूएई दुनिया के सबसे बड़े तेल और गैस भंडार की रैंकिंग में 7वें से 6वें स्थान पर आ गया है। अनुवादः एस कुमार.

http://www.wam.ae/en/details/1395302805995

WAM/Hindi