यूएई की विदेश नीति सह-अस्तित्व और शांति पर आधारित


अबू धाबी, 2 दिसंबर, 2019 (डब्ल्यूएएम) -- यूएई ने सात अमीरात के संघ की 48वीं वर्षगांठ मनाया है। यह अवसर 48 साल की घटनाओं और उपलब्धियों पर महासंघ की यात्रा का एक गंभीर प्रतिबिंब है। इसकी नींव स्वर्गीय शेख जायद बिन सुल्तान अल नहयान और उनके भाइयों द्वारा रखी गई थी। तब से राष्ट्रपति हिज हाइनेस शेख खलीफा बिन जायद अल नहयान ने उनके नक्शेकदम पर चलते हुए हमारे राष्ट्र को सभी स्तरों पर निरंतर प्रगति और समृद्धि की यात्रा पर अग्रसर किया। यह राष्ट्रीय अवसर पिछले कुछ वर्षों में यूएई की उपलब्धियों का जश्न मनाने का अवसर है। हिज हाइनेस शेख खलीफा बिन जायद अल नहयान के निर्देशों के बाद और उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और दुबई के शासक हिज हाइनेस शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम के नेतृत्व में और अबू धाबी के क्राउन प्रिंस और यूएई सशस्त्र बलों के उप सुप्रीम कमांडर हिज हाइनेस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नहयान की देखरेख में यूएई सरकार ने अपने लोगों और राष्ट्रीय क्षमताओं को विकसित करने के लिए उत्सुकता से निवेश किया है, जो यूएई विजन 2021 में योजनाबद्ध रूप से यूएई को दुनिया के सबसे अच्छे देशों में से एक बनाने की दिशा में महान प्रगति सुनिश्चित करता है। यूएई ने महत्वपूर्ण क्षेत्रों में भविष्य के अवसरों और चुनौतियों का पूर्वानुमान लगाने, विश्लेषण करने व आधुनिक तकनीकों का उपयोग करते हुए राष्ट्रीय लक्ष्यों को प्राप्त करने, देश के लोगों की सेवा करने के लिए उनका दोहन करने और उनकी खुशी सुनिश्चित करने के लिए दूरदर्शिता के माध्यम से रणनीतिक योजना बनाई है। इसने सभी क्षेत्रों में विकास पर ध्यान केंद्रित किया है, यह योजनाओं को मूर्त वास्तविकताओं में बदलकर क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय दोनों स्तरों पर रिकॉर्ड उपलब्धियों के माध्यम से यूएई को दुनिया के सबसे उन्नत देशों में स्थापित किया है। ये उपलब्धियां यूएई के भविष्य के लिए बुद्धिमान नेतृत्व की आकांक्षाओं के अनुरूप हैं, जो कि हिज हाइनेस शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम द्वारा शुरू किए गए यूएई शताब्दी 2071 के उद्देश्यों तक पहुंचने के लिए है, जो पांच दशकों में एक व्यापक दीर्घकालिक दृष्टि है। यूएई ने अपने विदेशी सहायता, विकास और मानवीय कार्यक्रमों के माध्यम से दुनिया में शांति और समृद्धि प्राप्त करने के लिए जबरदस्त मानवीय प्रयासों को जारी रखा है। देश ने आधिकारिक विकास सहायता के मामले में सबसे बड़े अंतरराष्ट्रीय दाताओं के बीच अपनी स्थिति बनाए रखी है। यूएई 2030 तक गरीबी उन्मूलन और सतत विकास को प्राप्त करने के लिए मानवता के अंतिम लक्ष्य के लिए एक ठोस सकारात्मक प्रभाव बनाना चाहता है। देश गरीबी से निपटने के प्रयासों में सबसे आगे है और विशेष रूप से उन सबसे कमजोर लोगों की जरूरत के लिए विदेशी सहायता प्रदान करता है। यूएई इस प्रकार दुनिया भर में वैकल्पिक और नवीकरणीय ऊर्जा समाधान के दुनिया के अग्रणी अधिवक्ताओं में से एक के रूप में उभरा है। अनुवादः एस कुमार.

http://wam.ae/en/details/1395302807757

WAM/Hindi