शनिवार 26 सितम्बर 2020 - 8:08:17 पीएम

पर्यावरण संरक्षण, जलवायु परिवर्तन को प्राथमिकता देने वाले क्षेत्र के प्रथम देशों में यूएई: मोहम्मद बिन राशिद

  • محمد بن راشد يطلع على استراتيجية وزارة التغير المناخي والبيئة للمرحلة المقبلة
  • محمد بن راشد يطلع على استراتيجية وزارة التغير المناخي والبيئة للمرحلة المقبلة
  • محمد بن راشد يطلع على استراتيجية وزارة التغير المناخي والبيئة للمرحلة المقبلة
  • محمد بن راشد يطلع على استراتيجية وزارة التغير المناخي والبيئة للمرحلة المقبلة

दुबई, 6 सितंबर, 2020 (डब्ल्यूएएम) -- उपराष्ट्रपति, प्रधानमंत्री और दुबई के शासक हिज हाइनेस शेख मोहम्मद बिन राशिद अल मकतूम ने कहा, "यूएई हरित नीतियों को अपनाकर और इस महत्वपूर्ण क्षेत्र में अग्रणी पहल करके यूएई पर्यावरण संरक्षण और जलवायु परिवर्तन को प्राथमिकता देने वाले क्षेत्र के पहले देशों में शामिल है।"

उन्होंने कहा, "पारिस्थितिक तंत्र की रक्षा करने वाली योजनाओं को मजबूत किया जाना चाहिए। साथ ही हमें अपने संसाधनों को संरक्षित करने, जैव विविधता को मजबूत करने और उत्पादकता के उच्चतम स्तर को प्राप्त करना चाहिए।"

जलवायु परिवर्तन और पर्यावरण मंत्रालय की एक टीम के साथ बैठक के दौरान हिज हाइनेस शेख मोहम्मद बिन राशिद ने यह बात कहीं। इस बैठक में कोविड -19 के बाद की व्यापक सरकारी कार्य योजना के तहत मंत्रालय की रणनीति पर चर्चा कि गई। इसमें उप प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति के मामलों के मंत्री हिज हाइनेस शेख मंसूर बिन जायद अल नहयान और कैबिनेट मामलों के मंत्री मोहम्मद बिन अब्दुल्ला अल गर्गावी ने भाग लिया। हिज हाइनेस शेख मोहम्मद ने कहा, "खाद्य विविधता में वृद्धि, खाद्य उत्पादों की सुरक्षा सुनिश्चित करना और कोविड-19 के बाद जलवायु परिवर्तन और पर्यावरण मंत्रालय द्वारा स्थानीय आत्मनिर्भरता प्राप्त करना प्राथमिकता होनी चाहिए।"

उन्होंने कहा, "देश में हरित अर्थव्यवस्था महत्वपूर्ण उद्योगों में से एक होगी और पर्यावरण की रक्षा, आर्थिक स्थिरता प्राप्त करने और सामुदायिक समृद्धि सुनिश्चित करने के लिए हमारी भविष्य की योजनाओं का मसौदा तैयार करते समय यह आवश्यक है। हमारा मिशन स्मार्ट तरीके से हमारे प्राकृतिक संसाधनों में निवेश करना और पर्यावरण की रक्षा करना है।"

उन्होंने आगे कहा, "हमें जलवायु परिवर्तन के आर्थिक और सामाजिक प्रभावों को कम करने, पृथ्वी के संसाधनों को संरक्षित करने और ऊर्जा के विविध स्रोतों को बढ़ाने के उद्देश्य से एक संयुक्त दृष्टि के आधार पर हमारे क्षेत्रीय और अंतर्राष्ट्रीय साझेदारी नेटवर्क का विस्तार करना चाहिए।"

जलवायु परिवर्तन और पर्यावरण मंत्री डॉ. अब्दुल्ला बिन मोहम्मद बेलहाफ अल नूमी ने मंत्रालय की भविष्य की रणनीति और इसके प्रमुख उद्देश्यों को प्रस्तुत किया, जिसमें यूएई के नेतृत्व के प्रयासों और राष्ट्रीय सतत संस्थानों को प्राप्त करने में राष्ट्रीय संस्थानों और संवर्गों का सहयोग करने के उसके प्रयासों की प्रशंसा की गई। उन्होंने बताया कि मंत्रालय देश के प्रासंगिक रणनीतिक उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों में सभी संबंधित प्राधिकारियों के साथ एक संयुक्त पद्धति के अनुसार काम कर रहा है। उन्होंने कहा कि मंत्रालय लचीलेपन और समुदाय की जरूरतों को पूरा करने की क्षमता, ज्ञान, प्रौद्योगिकियों और अच्छी प्रथाओं से लाभान्वित होने की क्षमता विकसित करने के महत्व से अवगत है। उन्होंने कहा, "जलवायु परिवर्तन और सीमित जल संसाधनों सहित देश के खाद्य उत्पादन क्षेत्र में आने वाली चुनौतियों के बावजूद, हमें विश्वास है कि उन्नत तकनीकों और अच्छी प्रथाओं का उपयोग करने से हम इन मुद्दों पर काबू पाने और बेहतर विकास के अवसरों को बनाने में सक्षम होंगे।"

अल नूमी ने आगे कहा, "मंत्रालय की भविष्य की रणनीति के तहत सुरक्षा और सुरक्षा के उच्चतम मानकों के अनुसार खाद्य विविधता और स्थानीय आत्मनिर्भरता सुनिश्चित करना है। साथ ही देश की प्रतिस्पर्धा को बढ़ाना और वाणिज्यिक खाद्य व्यापार के प्रमुख केंद्र के रूप में अपनी स्थिति को मजबूत करने के लिए अपने खाद्य उत्पादों को बढ़ावा देना है।"

अल नूमी ने बताया कि समुद्री पर्यावरण आर्थिक और पर्यावरणीय स्तरों पर सबसे महत्वपूर्ण और समृद्ध प्राकृतिक प्रणालियों में से एक है। उन्होंने कहा कि मंत्रालय ने राष्ट्रीय जलवायु परिवर्तन योजना के शुभारंभ सहित कई संबंधित उपलब्धियों को पूरा किया है, जो इस क्षेत्र में अपनी तरह का पहला केंद्र है। उन्होंने जलवायु परिवर्तन पर एक संघीय मसौदा कानून और जलवायु परिवर्तन का मुकाबला करने के लिए एक राष्ट्रीय कार्यक्रम के बारे में भी बताया। अनुवादः एस कुमार.

http://www.wam.ae/en/details/1395302867876

WAM/Hindi