रविवार 19 सितम्बर 2021 - 6:31:06 एएम

भारत के शीर्ष राजनयिक ने जीसीसी में प्रवास के नए युग की भविष्यवाणी की


नई दिल्ली, 15 सितंबर, 2021 (डब्ल्यूएएम) -- खाड़ी के साथ काम करने वाले भारत के शीर्ष राजनयिक ने कहा है कि उन्नत कौशल और नए सरकार-से-सरकार समझौतों के बाद जीसीसी में और उसके भीतर भारतीयों के प्रवास और गतिशीलता में "एक नया युग क्षितिज पर है"। व्यापार की फिर से कल्पना करने के लिए यहां दो दिवसीय वैश्विक विचार नेतृत्व मंच लीड्स 2021 में बोलते हुए विदेश मंत्रालय में खाड़ी, प्रवासी भारतीयों और कांसुलर मामलों के प्रभारी सचिव संजय भट्टाचार्य ने कहा कि यूएई "सूचना की पारदर्शिता और रोजगार की शर्तों की सुरक्षा" का एक मॉडल बन गया है। उन्होंने कहा, "ऑनलाइन माइग्रेशन प्लेटफॉर्म का एकीकरण, जो यूएई से शुरू हुआ और सऊदी अरब बाद में अन्य जीसीसी देशों तक बढ़ा दिया गया। न केवल सरकार बल्कि निजी क्षेत्र को भी शामिल करते हुए कौशल विकास में एक नए जोर की जरूरत थी। बदलते परिवेश में हमारे श्रमिकों के लिए लाभ उठाने के लिए माइग्रेशन प्लेटफॉर्म पर स्किल मैपिंग को कैप्चर किया जा सकता है।"

भट्टाचार्य ने बताया कि दुनिया भर में सूचना क्रांति के बाद यह देखा गया कि खाड़ी में विशेष रूप से स्वास्थ्य, लोजिस्टिक्स, सूचना प्रौद्योगिकी और नए उद्योगों में कौशल के लिए मांग में वृद्धि हुई है। इसके अलावा, उच्च तकनीक और डेटा सेवाओं में तेजी देखी गई, जिससे उन्हें मूल्य श्रृंखला को ऊपर उठाने में मदद मिली। उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी के बाद प्रवास और गतिशीलता को नए सामान्य में समायोजित करना पड़ा। यह लीड्स का दूसरा साल है, जो लीडरशिप, एक्सीलेंस, एडेप्टेबिलिटी, डायवर्सिटी, सस्टेनेबिलिटी का संक्षिप्त नाम है। लीड्स का आयोजन फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (फिक्की) द्वारा किया जाता है, जो व्यापार और विनिर्माण का एक प्रमुख प्रतिनिधि संगठन है। अनुवादः एस कुमार.

http://wam.ae/en/details/1395302970193

WAM/Hindi