शनिवार 31 अक्टूबर 2020 - 5:57:49 एएम

यूएई सहिष्णुता के लिए प्रतिबद्ध है, क्योंकि धर्म का हरण हो रहा हैः एम्बेसेडर अल ओतैबा


अबू धाबी, 21 जुलाई, 2020 (डब्ल्यूएएम) -- संयुक्त अरब अमीरात के एक शीर्ष राजनयिक ने कहा है कि यूएई पिछले कई सालों में सहिष्णुता के लिए प्रतिबद्ध रहा है, क्योंकि धर्म को हाइजैक किया जा रहा है, साथ ही इसका राजनीतिकरण हो रहा है। अमेरिका में यूएई के राजदूत यूसेफ अल ओतैबा ने कहा, हम हमेशा से सहिष्णुता और संबंधित मूल्यों को बढ़ावा देते रहे हैं, लेकिन हम कभी भी उतने मुखर नहीं रहे हैं, जितना कि हम पिछले कुछ सालों में हुए हैं। वह सोमवार को एक वेबिनार में स्पेशल ओलंपिक यूनिफाइड चैंपियन स्कूल्स, यूसीएस के वैश्विक विस्तार पर चर्चा करने के लिए विशेष ओलंपिक की मेजबानी में बोल रहे थे। इसमें अबू धाबी के क्राउन प्रिंस और यूएई सशस्त्र बलों के उप सर्वोच्च कमांडर हिज हाइनेस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नहयान की ओर से 25 मिलियन अमेरिकी डॉलर की सहायता प्रदान की गई है। राजदूत ने बताया, "पोप की मेजबानी करना, विशेष ओलंपिक लाना, अब्राहमिक हाउस का निर्माण करना ... ये सब इसलिए है क्योंकि हमें लगता है कि धर्म का अतिवाद और कट्टरतावाद की वजह से राजनीतिकरण हो रहा है। साथ ही मूल रूप से दुनिया भर में कई सारे लोगों द्वारा गलत व्याख्या की गई है।"

अल ओतैबा ने कहा, "मुझे लगता है कि हमारा धर्म, कम से कम जिस तरह से मैं अपने धर्म को समझता हूं, वह राजनीति के बारे में कभी नहीं था ... कभी चरमपंथ के बारे में नहीं था ... हिंसा के बारे में कभी नहीं था।"

राजदूत ने बताया, "इसलिए बहुत से लोग अब हमें देखते हैं और दुनिया के हमारे हिस्से को देखते हैं और सोचते हैं कि यह पूरा क्षेत्र हिंसक है और यहां का धर्म कट्टरपंथी है, जो कि नहीं है। हम दुनिया के बाकी हिस्सों को यह बताने की कोशिश कर रहे हैं कि धर्म का चरमपंथ या राजनीति से कोई लेना-देना नहीं है। यह विश्वास और सम्मान का साथ है।"

वरिष्ठ राजनयिक ने कहा, "विभिन्न लोग अलग-अलग तरीकों से धर्म का पालन करते हैं, लेकिन मुझे लगता है कि यह संदेश मध्य पूर्व से दुनिया के बाकी हिस्सों में भेजना महत्वपूर्ण है।"

अनुवादः एस कुमार.

http://www.wam.ae/en/details/1395302856743

WAM/Hindi