गुरुवार 09 दिसंबर 2021 - 4:41:22 एएम

इजराइल के ऊर्जा मंत्री सुहैल अल मजरूई ने एक्सपो 2020 दुबई में समझौता पर हस्ताक्षर किए


अबू धाबी, 23 नवंबर, 2021 (डब्ल्यूएएम) -- ऊर्जा और अवसंरचना मंत्री सुहैल बिन मोहम्मद अल मजरूई ने कहा कि यूएई ऊर्जा क्षेत्र में विभिन्न अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ियों के साथ सहयोग करना विशेष रूप से स्वच्छ ऊर्जा के क्षेत्र में इसे अक्षय ऊर्जा क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय प्रयासों का नेतृत्व करने का एक मॉडल बनाने के लिए जारी रखे हुए है। अल मजरूई ने यह बयान एक्सपो 2020 दुबई में इजराइली पवेलियन में इजराइल के ऊर्जा मंत्री काराइन एलहरर के साथ अपनी बैठक के दौरान दिया, जहां दोनों देशों ने ऊर्जा क्षेत्र में अपने संबंधों को मजबूत करने के उद्देश्य से एक समझौता पर हस्ताक्षर किए। अल मजरूई ने कहा, "यूएई और इजराइल दोनों ने एक साल पहले दोनों पक्षों के बीच अब्राहम समझौते शांति समझौते पर हस्ताक्षर करने के बाद से सभी क्षेत्रों में विशेष रूप से ऊर्जा में कई महत्वाकांक्षी लक्ष्य हासिल किए हैं।"

उन्होंने जोर देकर कहा कि समझौते ने दोनों देशों और क्षेत्र के लिए आशाजनक अवसर पैदा करने में मदद की है। यूएई की दृष्टि स्पष्ट है और ऊर्जा के भविष्य को सुनिश्चित करने के उद्देश्य से साझेदारी के माध्यम से यूएई सरकार द्वारा शुरू की गई "प्रोजेक्ट्स ऑफ द 50" को लागू करने के उद्देश्य से महत्वपूर्ण प्रयासों को जारी रखते हुए अगले 50 सालों के लिए सिद्धांतों और उद्देश्यों के अनुरूप है। उन्होंने कहा, "ये साझेदारी नवीकरणीय ऊर्जा के साथ मसौदा परियोजनाओं और पहलों को प्राप्त करने में मदद करेगी, जो जलवायु परिवर्तन के लिए पेरिस समझौते का सहयोग करते हैं, जिसे यूएई ने सबसे पहले मंजूरी दी थी।"

दोनों पक्षों के कई अधिकारियों की उपस्थिति में अल मजरूई और एलहरर द्वारा हस्ताक्षरित समझौता ऊर्जा भंडारण विशेष रूप से स्वच्छ ऊर्जा के साथ बुनियादी ढांचा साइबर सुरक्षा, जीवाश्म ईंधन, बिजली ग्रिड, स्मार्ट नेटवर्क, हाइड्रोजन व जल के मुद्दे और यूएई व इजराइल की ऊर्जा रणनीतियों का सहयोग करने के तरीके से संबंधित मुद्दों पर चर्चा करने के लिए ज्ञान और विशेषज्ञता के आदान-प्रदान और उच्च स्तरीय बैठकों की मेजबानी को निर्धारित करता है। समझौता जलवायु परिवर्तन जैसे बदलते आर्थिक, सामाजिक और पर्यावरणीय विचारों पर विचार करते हुए ऊर्जा, विज्ञान और प्रौद्योगिकी नीतियों को लागू करने में सतत विकास के लिए दोनों पक्षों की प्रतिबद्धता की पुष्टि करता है। यह ऊर्जा से संबंधित सेवाओं और उपकरणों में निवेश और व्यापार को बढ़ावा देता है और बाजार पहुंच के अवसरों और ऊर्जा संसाधनों के सतत विकास को बढ़ावा देने के लिए आम वैश्विक दृष्टिकोण विकसित करने के रणनीतिक महत्व पर प्रकाश डालता है। यूएई का लक्ष्य भविष्य के ऊर्जा मिश्रण में विविधता लाना, 2050 तक राष्ट्रीय ऊर्जा मिश्रण में स्वच्छ ऊर्जा के योगदान को बढ़ाकर 50 फीसदी करना और ऊर्जा रणनीति 2050 को लागू करके अपने कार्बन फुटप्रिंट को 70 फीसदी तक कम करना और व्यक्तिगत और संस्थागत उपभोग की दक्षता में 40 फीसदी की वृद्धि करना है। अनुवादः एस कुमार.

http://wam.ae/en/details/1395302995899

WAM/Hindi