मंगलवार 16 अगस्त 2022 - 4:48:40 एएम

संयुक्त यूएई-बहरीनी नैनोसेटेलाइट लाइट -1 21 दिसंबर को लॉन्च करने के लिए तैयार


अबू धाबी, 19 दिसंबर, 2021 (डब्ल्यूएएम) -- संयुक्त यूएई-बहरीनी नैनोसेटेलाइट लाइट -1 को 21 दिसंबर 2021 को अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन में लॉन्च किया जाएगा। यह यूएई और बहरीन के बीच अंतरिक्ष विज्ञान, प्रौद्योगिकी और इंजीनियरिंग में सहयोग के एक प्रमुख मील के पत्थर का प्रतिनिधित्व करता है। थर्मल व कंपन, संचार प्रणालियों और अन्य के लिए कठोर सुरक्षा और पर्यावरण परीक्षणों से गुजरने के बाद लाइट -1 एक फाल्कन 9 रॉकेट के बोर्ड पर स्पेसएक्स सीआरएस -24 उड़ान भरेगा। इसके बाद लाइट-1 को जापानी एयरोस्पेस स्पेस एजेंसी (जेएक्सए) की देखरेख में आईएसएस में जापानी प्रयोग मॉड्यूल (केआईबीओ) से कक्षा में स्थापित किया जाएगा। नैनोसेटेलाइट को यूएई अंतरिक्ष एजेंसी और बहरीन की नेशनल स्पेस साइंस एजेंसी यानी (एनएसएसए) के सहयोग से बनाया और डिजाइन किया गया था। यह बहरीन और यूएई के बीच द्विपक्षीय संबंधों का एक वसीयतनामा है, जो अंतरिक्ष सहित प्राथमिकता वाले उद्योगों में दोनों देशों के बीच सामाजिक, आर्थिक और वैज्ञानिक सहयोग को रेखांकित करता है। लाइट -1 एक नैनो उपग्रह है, लेकिन इसे बनाने या लॉन्च करने के लिए आवश्यक तकनीक या तकनीकी विशेषज्ञता के मामले में यह अन्य बड़े उपग्रहों से अलग नहीं है। यह एक घन उपग्रह भी है जिसमें तीन इकाइयां होती हैं और इसे अक्सर 3U क्यूबसैट के रूप में जाना जाता है। लाइट -1 का नाम बहरीन की किताब द फर्स्ट लाइट के महामहिम राजा हमद बिन ईसा अल खलीफा से प्रेरित था। यह बहरीन के इतिहास के प्रमुख बिंदुओं को बताता है और यह नाम देश के विकास और वैज्ञानिक प्रगति का प्रतीक है। अनुसंधान अंतरिक्ष यान को प्रमुख बहरीन और अमीराती इंजीनियरों व यूएई में प्रयोगशालाओं से काम करने वाले वैज्ञानिकों द्वारा विकसित किया गया था। टीम 23 छात्रों से बनी है, जिसमें खलीफा विश्वविद्यालय और न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय अबू धाबी के नौ बहरीन और 14 अमीराती शामिल हैं। पृथ्वी के चारों ओर अपनी कक्षा में पहुंचने के बाद लाइट -1 गरज और क्यूम्यलस बादलों से स्थलीय गामा किरण चमक (TGRs) की निगरानी और अध्ययन करेगा। टीआरजी विश्लेषण भूवैज्ञानिक अनुसंधान का एक उभरता हुआ क्षेत्र है जिसमें मिशन अंतरराष्ट्रीय स्तर पर योगदान देगा। यह क्षेत्र में अपनी तरह का पहला अध्ययन होगा। न्यूयॉर्क विश्वविद्यालय इस मिशन के लिए विज्ञान डेटा विश्लेषण पहलू का नेतृत्व करेगा। संयुक्त लाइट -1 उपग्रह के अलावा अबू धाबी में खलीफा विज्ञान और प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय प्रमुख परियोजनाओं में उन्हें शामिल करके एनएसएसए कर्मचारियों की क्षमता निर्माण का सहयोग करता है। इससे अंतरिक्ष क्षेत्र में प्रतिभाओं को प्रशिक्षित करने और उन्हें आगे बढ़ाने में मदद मिली है। बहरीन अरब अंतरिक्ष सहयोग समूह का भी सदस्य है, जो अरब देशों के बीच अंतरिक्ष पर सहयोग को बढ़ावा देने के लिए अपनाई गई एक पहल है। इसके 14 सदस्य देश हैं और इसका मुख्यालय अबू धाबी में है। अनुवादः एस कुमार.

http://wam.ae/en/details/1395303004612

WAM/Hindi