बुधवार 18 मई 2022 - 5:21:09 पीएम

नूरा अल काबी ने एक्सपो 2020 दुबई में वर्ल्ड पोएट्री ट्री एंथोलॉजी का जायजा लिया


दुबई, 27 जनवरी, 2022 (डब्ल्यूएएम) -- संस्कृति और युवा मंत्री नूरा बिन मोहम्मद अल काबी ने आशा, प्रेम और शांति के लिए एक वैश्विक कविता संकलन द वर्ल्ड पोएट्री ट्री लॉन्च किया। यह लॉन्च एक्सपो 2020 दुबई में यूएई पवेलियन में प्रसिद्ध अमीराती कवि एडेल खोजाम और उनके परिवार की उपस्थिति में हुआ, जो इस कविता संग्रह के पीछे दिमाग हैं और उन्होंने पुस्तक के समन्वय, संपादन और डिजाइन पर काम किया। इस संग्रह में दुनिया भर के 106 देशों के 405 प्रमुख कवियों की कविताएं शामिल हैं, जिनमें साहित्य के लिए नोबेल पुरस्कार नामांकित व्यक्ति, वैश्विक कविता उत्सवों के निदेशक, विश्व प्रसिद्ध संस्कृति पत्रिकाओं और प्लेटफार्मों के पर्यवेक्षक व विभिन्न विश्वविद्यालयों के साहित्य के प्रोफेसर शामिल हैं, जिन्होंने इस 1,000 पृष्ठ के अंतर्राष्ट्रीय साहित्यिक कार्य में भाग लिया। यह पुस्तक विश्व प्रदर्शनी के इतिहास में सभी महाद्वीपों के साहित्यकारों की कृतियों को संकलन में संकलित करने के लिए अपनी तरह की पहली पहल के रूप में दर्ज होगी। अल काबी ने कहा कि संस्कृति और युवा मंत्रालय ऐसी परियोजनाओं को प्रोत्साहित और सहयोग करता है। उन्होंने इस संग्रह की अवधारणा के साथ अमीराती परिवार की पहल की प्रशंसा की और सभी भाग लेने वाले कवियों को उनके योगदान के लिए धन्यवाद दिया। एक्सपो 2020 दुबई में 192 विभिन्न देशों की मेजबानी करके यूएई ने विभिन्न संस्कृतियों और पृष्ठभूमि से रचनात्मक आवाजों को अपनाया है। प्रेम और शांति का संदेश देने वाला काव्य संकलन एक्सपो के लिए संस्कृतियों के बीच सेतु बनाने की एक और उपलब्धि है। इस पुस्तक की देखरेख यूएई के सबसे प्रमुख कवियों में से एक एडेल खोजाम ने की थी, जिन्होंने कविता संग्रह, उपन्यास और दर्शन सहित 15 पुस्तकें प्रकाशित की हैं। 2020 में खोजाम ने इटली में तुलुला पोएट्री अवार्ड जीता और शिक्षा, संस्कृति, कला, कविता, साहित्य, शांति और सामाजिक न्याय का सहयोग करने वाले उनके उत्कृष्ट कार्य के लिए वर्ल्ड फेडरेशन ऑफ हिस्पैनिक राइटर्स द्वारा सिल्वर शील्ड से सम्मानित किया गया। एडेल खोजाम ने कहा कि यह पहल एक्सपो 2020 दुबई के "कनेक्टिंग माइंड्स, क्रिएटिंग द फ्यूचर" की थीम पर काम करती है, जहां कविता मानव विचार के केंद्र में है और प्यार, आशा और शांति को बढ़ावा देने के लिए देशों और संस्कृतियों के अभिसरण का आह्वान करती है। यह पुस्तक दुनिया के कवियों द्वारा एक्सपो के लिए एक सामूहिक श्रद्धांजलि है और आने वाले सालों के लिए याद की जाएगी। अनुवादः एस कुमार.

https://wam.ae/en/details/1395303015503

WAM/Hindi