पाकिस्तान में अमीराती विकास परियोजनाओं का बाढ़ आपदा के प्रभाव को कम करने में योगदान

पाकिस्तान में अमीराती विकास परियोजनाओं का बाढ़ आपदा के प्रभाव को कम करने में योगदान

अबू धाबी, 25 सितंबर, 2022 (डब्ल्यूएएम) -- पाकिस्तान हाल ही में विनाशकारी बाढ़ से प्रभावित हुआ था, जिसके परिणामस्वरूप जान और माल का नुकसान हुआ था, जिससे 33 मिलियन से अधिक लोग प्रभावित हुए थे और देश के लगभग एक तिहाई हिस्से में बाढ़ आ गई थी। पाकिस्तान के नेशनल डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी (NDMA) द्वारा जारी नई आंकड़ों के अनुसार, आपदा के परिणामस्वरूप 552 बच्चों सहित 1,569 से अधिक लोगों की मौत हुई, 13,000 से अधिक लोग घायल हुए, लगभग 70 लाख लोग विस्थापित हुए। इसके अतिरिक्त, 5,500 स्कूलों को प्रभावित लोगों के लिए आश्रय के रूप में इस्तेमाल किया गया था। दूषित जल पीने के कारण बाढ़ ने बीमारियों की उच्च दर के प्रसार में योगदान दिया। लगभग 1.9 मिलियन घर क्षतिग्रस्त व नष्ट हो गए और 12.7 हजार किलोमीटर से अधिक सड़कें बह गईं। NDMA के आंकड़ों में कहा गया है कि इसने 390 महत्वपूर्ण पुलों, 24,000 स्कूलों और शैक्षणिक संस्थानों और 1,460 स्वास्थ्य केंद्रों को नष्ट कर दिया साथ ही लाखों हेक्टेयर भूमि और कृषि फसलों को नष्ट कर दिया और 936,000 पशुधन की मौत हो गई। 2010 के अंत से यूएई ने स्वर्गीय शेख खलीफा बिन जायद अल नहयान के निर्देशों के तहत और उनके राष्ट्रपति हिज हाइनेस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नहयान और उप प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति न्यायालय के मंत्री हिज हाइनेस शेख मंसूर बिन जायद अल नहयान के अनुवर्ती कार्रवाई के तहत पाकिस्तान में बाढ़ आपदा से प्रभावित क्षेत्रों और क्षेत्रों की आबादी के लिए सड़कों, पुलों, स्वास्थ्य, शिक्षा, जल और कृषि के क्षेत्र में 200 से अधिक महत्वपूर्ण विकास परियोजनाओं के कार्यान्वयन और पूरा करने के माध्यम से पाकिस्तानी लोगों की सहायता करने और उनकी पीड़ा को कम करने के लिए कई मानवीय और विकास पहलों का सहयोग किया है। इस साल की बाढ़ के बाद बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों जैसे खैबर पख्तूनख्वा और बलूचिस्तान प्रांतों में अमीराती विकास परियोजनाओं ने उन क्षेत्रों के निवासियों के लिए अपनी उच्च गुणवत्ता और कई लाभ साबित किए हैं। अमीराती अस्पतालों की परियोजनाओं ने घायलों को प्राप्त करने व उन्हें उपचार, आपातकालीन बचाव और दवा सेवाएं प्रदान करने में योगदान दिया। सड़कों और सेतु की परियोजनाओं ने भी प्रभावित क्षेत्रों के बीच सड़कों और सेतु पर सुरक्षित आवाजाही की सुविधा, परिवहन व्यवधानों को रोकने और राहत और एम्बुलेंस संचालन को जारी रखते हुए लाखों लोगों की जान बचाने में योगदान दिया है। इसके अलावा अमीराती स्कूलों ने भी प्रभावित और विस्थापित परिवारों व उनके बच्चों के लिए अपने भवनों को आश्रय के रूप में उपयोग करके असाधारण लाभ प्रदान किया है। यूएई पाकिस्तान सहायता कार्यक्रम के निदेशक अब्दुल्ला खलीफा अल गफली ने कहा कि पिछले सालों के दौरान पाकिस्तान में पूरी की गई विकास परियोजनाएं यूएई के प्रज्ञ नेतृत्व के निर्देशों को दर्शाती हैं। अल गफली ने बताया कि यूएई विकास परियोजनाओं का बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के निवासियों की रक्षा करने और आपदा के नकारात्मक प्रभावों को कम करने में सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। उन्होंने कहा, "यह 12 से अधिक अस्पतालों और क्लीनिकों की सफलता में समेकित किया गया था, जो विभिन्न पाकिस्तानी प्रांतों में बनाए गए और सुसज्जित थे।"

अल गफली ने पुष्टि किया कि यूएई पाकिस्तान सहायता कार्यक्रम ने एकीकृत महत्वपूर्ण परियोजनाओं के लिए वैश्विक और आधुनिक मानकों के साथ उच्च स्तर की दक्षता, गुणवत्ता, प्रतिबद्धता और सटीकता निर्धारित की है, जिसकी पाकिस्तान में 200 से अधिक विकास परियोजनाओं के सफल कार्यान्वयन पर एक मौलिक भूमिका और गहरा प्रभाव था, जो दोनों देशों को सभी राजनीतिक, आर्थिक और सामाजिक स्तरों पर बांधने वाले विशिष्ट ऐतिहासिक संबंधों की गहराई को दर्शाता है। वहीं, पाकिस्तान के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों के निवासियों ने अमीराती विकास परियोजनाओं के लिए यूएई और इसके प्रज्ञ नेतृत्व और बाढ़ के नतीजों को कम करने में उनकी भूमिका के लिए धन्यवाद दिया और प्रशंसा व्यक्त की है, जो जीवन और संपत्ति की सुरक्षा में योगदान देता है। अनुवाद - एस कुमार.

https://wam.ae/en/details/1395303086430