COP28 महानिदेशक प्रशांत द्वीप देशों की जलवायु प्राथमिकताओं और जरूरतों के प्रति प्रतिबद्धता को रेखांकित किया

COP28 महानिदेशक प्रशांत द्वीप देशों की जलवायु प्राथमिकताओं और जरूरतों के प्रति प्रतिबद्धता को रेखांकित किया

सुवा, फिजी, 21 अगस्त, 2023 (डब्ल्यूएएम) -- COP28 के महानिदेशक और विशेष प्रतिनिधि माजिद अल सुवेदी ने फिजी के प्रधानमंत्री सितिवेनी राबुका और प्रशांत द्वीप देशों के प्रतिष्ठित नेताओं से मुलाकात करने के लिए फिजी का दौरा किया।

फिजी में जलवायु परिवर्तन पर प्रशांत SIDS उच्च-स्तरीय वार्ता में अपनी टिप्पणी में अल सुवेदी ने आगामी जलवायु शिखर सम्मेलन में कमजोर देशों के लिए COP28 प्रेसीडेंसी की प्रतिबद्धता को रेखांकित किया। अल सुवेदी ने यह भी माना कि जलवायु परिवर्तन छोटे द्वीप विकासशील राज्यों (SIDS) के लिए एक संभावित खतरा है और उन्होंने पहुंच के भीतर 1.5 डिग्री सेल्सियस बनाए रखने के COP28 प्रेसीडेंसी पर जोर दिया।

अल सुवेदी ने कहा, "जलवायु परिवर्तन के मोर्चे पर यहां के समुदाय समुद्र के स्तर में वृद्धि, पीने के जल के खारेपन, तटीय कटाव और तूफानों की बढ़ती गंभीरता का सामना कर रहे हैं। इन खतरों ने प्रशांत द्वीप समूह और SID को दुनिया भर में जलवायु कार्रवाई पर नैतिक नेता बना दिया है।"

अल सुवेदी ने COP28 प्रेसीडेंसी के एक्शन एजेंडा के चार स्तंभों को रेखांकित किया, जिसमें एक न्यायसंगत और व्यवस्थित ऊर्जा परिवर्तन को तेजी से ट्रैक करने; जलवायु वित्त को ठीक करने; लोगों, जीवन और आजीविका पर ध्यान केंद्रित करने और पूरी समावेशिता के साथ हर चीज को रेखांकित करना शामिल है।

अल सुवेदी ने कहा, "ये सभी प्राथमिकताएं आपस में जुड़ी हुई हैं और परस्पर मजबूत हैं और हमें यह सुनिश्चित करने के लिए सभी हितधारकों को मिलकर काम करने की जरूरत है कि हम सभी साथ आगे बढ़ें।"

COP28 प्रेसीडेंसी की प्राथमिकताओं पर चर्चा करते हुए, जो SIDS को सबसे अधिक प्रभावित करती हैं, अल सुवेदी ने हानि और क्षति निधि और फंडिंग व्यवस्था को संचालित करने और शीघ्र पूंजीकरण प्रदान करने की आवश्यकता को दोहराया।

उन्होंने इस उम्मीद पर भी चर्चा किया कि COP28 अनुकूलन पर वैश्विक लक्ष्य के लिए एक रूपरेखा अपनाएगा और दोहराया कि रूपरेखा "व्यापक होनी चाहिए और इसमें लचीलापन बनाने और जीवन, आजीविका और पारिस्थितिकी तंत्र की रक्षा के लिए सभी पक्षों द्वारा अनुकूलन पर बढ़ी हुई कार्रवाई को चलाने के लिए महत्वाकांक्षी लक्ष्य शामिल होने चाहिए। "

अल सुवैदी ने प्रशांत देशों से अपनी जलवायु महत्वाकांक्षा को बढ़ाने के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय पर दबाव बनाए रखने, राजनीतिक बाधाओं को हल करने में मदद करने और COP28 में पहले ग्लोबल स्टॉकटेक के लिए एक मजबूत वैश्विक प्रतिक्रिया सुनिश्चित करने का आह्वान किया।

COP28 महानिदेशक ने इस बात पर जोर दिया कि जलवायु परिवर्तन की अग्रिम पंक्ति में प्रशांत द्वीप समुदायों को जलवायु निर्णय लेने की प्रक्रिया में सबसे आगे होना चाहिए।

यात्रा के दौरान अल सुवैदी ने फिजी स्थित COP28 अंतर्राष्ट्रीय युवा जलवायु प्रतिनिधि रेशमा राम से भी मुलाकात की। 100 युवा प्रतिनिधियों का COP28 अंतर्राष्ट्रीय युवा जलवायु प्रतिनिधि कार्यक्रम दुनिया के सबसे कम विकसित देशों, छोटे द्वीप विकासशील राज्यों, स्वदेशी लोगों और अल्पसंख्यक समूहों का प्रतिनिधित्व करता है।

अनुवाद - पी मिश्र.

https://wam.ae/en/details/1395303188157